NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

केरल में भारी बारिश-बाढ़ से तबाही, मृतकों की संख्या बढ़कर 173 हुई

आज केरल जा सकते हैं पीएम मोदी

408

Kochi: केरल में भारी बारिश ने पिछले कुछ दिनों से तबाही मचा रखी है. कई इलाकों में पानी भरा है. कई शहर बाढ़ से जूझ रहे हैं. कई जगहों पर हवाई और रेल यातायात बाधित हुई है. अधिकारियों ने बताया कि आठ अगस्त से भारी बारिश और बाढ़ की वजह से कुल 173 लोगों की मौत हो चुकी है. महज एक दिन गुरुवार को 100 से अधिक लोगों की मौत हो गयी.

इसे भी पढ़ेंःअंतिम सफर पर अटल बिहारी वाजपेयी, दिन के एक बजे तक बीजेपी मुख्यालय में अंतिम दर्शन

अबतक 173लोगों की मौत

केरल में भारी बारिश और बाढ़ की वजह से गुरुवार को 100 से अधिक लोगों की जान चली गई, हालांकि शुरुआत में ये आंकड़ा 30 बताया जा रहा था. इसके अलावा, कई घरों में पानी भर गया और सड़कों को नुकसान पहुंचा वहीं कई स्थानों पर हवाई और रेल यातायात बाधित हुआ.

भारतीय नौसेना ने त्रिचुर, अलूवा और मवूत्तुपुझा में फंसे हुए लोगों को हवाई मार्ग से निकाला है. वीडियो में दिखाया गया है कि लोग जलमग्न घरों की छतों और पहाड़ों पर हैं तथा नौसेना हेलीकॉप्टरों के जरिए निकाल रही है. सूत्रों ने बताया कि राज्य के 14 जिलों में से एक को छोड़ कर सभी हाई अलर्ट पर हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देशों पर रक्षा मंत्रालय ने राज्य में राहत और बचाव कार्य के लिए सेना की तीन इकाइयों की नयी टीमें भेजी हैं. राज्य में 1.5 लाख से ज्यादा बेघर और विस्थापित लोग राहत शिविरों में हैं.

इसे भी पढ़ेंःबढ़ानी है सरकार को स्थापना दिवस की शोभा, इसलिए छात्रों को तीन माह तक नहीं मिलेंगे 21 हजार शिक्षक

आज जा सकते हैं पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार  को केरल पहुंच सकते हैं. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अंतिम संस्कार के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शुक्रवार रात तक केरल पहुंचने की संभावना है. वह शनिवार को पानी में डूबे इलाकों का हवाई सर्वे करेंगे. इससे पहले केरल में बारिश से मची तबाही के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन से गुरुवार को फिर बात की और स्थिति से निपटने में केंद्र की मदद का उन्हें आश्वासन दिया. मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘हम ने राज्य में बाढ़ की स्थिति पर चर्चा की. रक्षा मंत्रालय से कहा है कि राज्य में बचाव एवं राहत अभियानों को और बढ़ाए. केरल के लोगों की सुरक्षा और सलामती की प्रार्थना करता हूं.’’

इसे भी पढ़ेंः2012 से 2017 तक झारखंड के 218 NGO का FCRA लाइसेंस रद्द कर चुका है गृह मंत्रालय

एनसीएमसी की बैठक में मंथन

madhuranjan_add

राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) ने केरल में करीब एक सदी में आई सबसे भीषण बाढ़ की वजह से तेजी से बिगड़ती स्थिति की समीक्षा के लिए नयी दिल्ली में बैठक की. कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा की अध्यक्षता में हुई बैठक में थल सेना, नौसेना और वायु सेना प्रमुखों के अलावा, गृह, रक्षा सचिवों समेत अन्य शीर्ष अधिकारियों ने शिरकत की.

मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने गुरुवार को कहा था कि शुक्रवार के बचाव अभियानों में 23 और हेलीकॉप्टरों को शामिल किया जायेगा और सेवा में 200 अतिरिक्त नौकाओं को भी लगाया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःमेयर, डिप्टी मेयर और पार्षदों के हित पर ही बोर्ड बैठक में होती है बात, आम लोगों के मुद्दे हुए गौण

एयरपोर्ट में भी भरा पानी

कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे ने गुरुवार से सभी सेवाओं की निलंबन की अवधि 26 अगस्त दोपहर दो बजे तक के लिए बढ़ा दी है. हवाई अड्डे के अधिकतर हिस्से में पानी भर गया है. कोच्चि मेट्रो की सेवाएं भी कुछ वक्त के लिए बाधित हुई क्योंकि मुत्तम यार्ड में जलस्तर बढ़ गया था.

बाढ़ की वजह से रेल सेवा भी प्रभावित हुई है. दक्षिणी रेलवे ने एक बयान में बताया है कि 25 ट्रेनों को या तो रद्द किया गया है या उनके वक्त में बदलाव किया गया है.

उल्लेखनीय है कि 1924 के बाद पहली बार केरल में इतनी खतरनाक बाढ़ आई है. तब 3 हफ्तों तक बारिश हुई थी, जिससे पूरा केरल जलमग्न हो गया था.

वही मौसम विभाग ने राज्य के विभिन्न इलाकों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया गया है.
रिपोर्ट के अनुसार पथनमथिट्टा, तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, अलपुझा, कोट्टायम, इडुक्की, एर्नाकुलम, त्रिशूर, पलक्कड़, मलप्पुरम, कोझिकोड और वायनाड जिलों में 60 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: