JharkhandLead NewsRanchi

झामुमो ने भाजपा को बताया भारी जाली पार्टी, कहा-पेगासस से करायी जासूसी

Ranchi : ईजरायली स्पाईवेयर पेगासस का मसला झारखंड की राजनीति में भी छाया हुआ है. बुधवार को झामुमो के केंद्रीय प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने इसे लेकर केंद्र और प्रदेश भाजपा पर सवाल उठाये. प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि शीर्ष पर बैठे लोग देश के लोगों को गुमराह कर रहे. वे लोगों को औऱ अधिक भय में जीने, अविश्वास में रहने को मजबूर कर रहे हैं. 20 जुलाई को संसद में कहा गया कि देश में आज तक ऑक्सीजन के कारण एक भी मौत नहीं हुई.

यह गंभीर और सुनियोजित झूठ है. लोगों को कोरोना काल में चैन से भाजपा ने जीने नहीं दिया. अब मृतकों के परिजनों की भावनाओं को भी आहत करने का प्रयास हो रहा है.

पूरे कोरोना काल में जब देश संकट में था, भारी जाली पार्टी (बीजेपी) पेगासस के जरिये लोगों की जासूसी करा रही थी. कर्नाटक, मध्य प्रदेश में इसी के जरिये उसने सरकार भी बनायी.

इसे भी पढ़ें :74 हजार सेविका-सहायिका को मिलेगा चार महीने का मानदेय, आंदोलन स्थगित

advt

ऑक्सीजन पर मचा था हाहाकार

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि ऑक्सीजन की कमी से कई लोगों ने अपनों को खोया है. अप्रैल-मई में जब बंगाल सहित 5 राज्यों में चुनाव चल रहा था, पीएम अलग-अलग राज्यों का दौरा कर रहे थे. कोविड का मैनेजमेंट सिस्टम पिछले साल से ही अपने हाथ में केंद्र ने ले रखा था. पीएम केयर फंड, स्वास्थ्य विभाग का बजट सभी केंद्र के पास था.

इन सबके बीच बड़े पैमाने पर ऑक्सीजन की कमी से लोग मर रहे थे. मई में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को इसके लिए फटकारा था. इसके लिए लोग ऑक्सीजन प्लांटों में दौड़ लगा रहे थे.

ब्लैक में 25-30 हजार तक खर्च करके सिलेंडर का जुगाड़ कर रहे थे. ऑक्सीजन पर भी केंद्र का कब्जा था. रेल मंत्री ऑक्सीजन एक्सप्रेस चलाने में लगे थे. इन सबके बावजूद सरकार संसद में झूठ बोल रही कि ऑक्सीजन की कमी से एक भी जान नहीं गयी. केंद्र को इस झूठ के कारण नर्क में भी जगह नहीं मिलेगी.

इसे भी पढ़ें :बिहारः केंद्र सरकार का दावा ऑक्सीजन की कमी से कोई नहीं मरा, विपक्ष ने कहा- झूठ बोलते हैं स्वास्थ्य मंत्री

रघुवर सरकार की करतूतों का खामियाजा भुगत रहे युवा

रघुवर सरकार ने 13-11 में जिलों को बांटकर राज्य में विसंगति का माहौल बना दिया. उसी का असर आज देखने को मिल रहा है. संविदा में जिन शर्तों को रख कर नौकरियां बांटी, उसके लिए ऱघुवर को युवाओं से माफी मांगनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें :CBSE 12th board results : परीक्षाफल तैयार करने के लिए स्कूलों की समय-सीमा 25 जुलाई तक बढ़ाई

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: