न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शहीद हीरा कुमार झा को दी गयी भावभीनी श्रद्धांजलि 

शहीद के परिजनों को सम्मानित करने पर खुद  पर हो रहा गर्व : एसएसपी

140

Dhanbad :  पुलिस स्मृति दिवस पर 154 वीं सीआरपीएफ प्रधानखंटा द्वारा शौर्य चक्र अमर शहीद हीरा कुमार झा को भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई. साथ ही मौके पर रक्तदान शिविर का आयोजन भी किया गया. मौके पर शहीदों को स्मरण करते हुए शौर्य चक्र विजेता धनबाद निवासी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के द्वितीय कमान अधिकारी अमर शहीद हीरा कुमार झा को पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गयी. मौके पर उपस्थित सीआरपीएफ कमांडेंट आलोक वीर यादव ने कहा कि 21 अक्टूबर 1959 को जम्मू कश्मीर के लद्दाख के हॉट स्प्रिंग में चीनी हमलों का मुकाबला करते हुए सीआरपीएफ के 10 वीर जवानों की शहादत को सम्मान देने के लिए पुलिस स्मृति दिवस मनाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :आदिवासियों के विकास और सुरक्षा के लिए केंद्रीय सरना समिति चलायेगी अभियान : बबलू मुंडा

बच्चों को देशभक्ति और जज्बा की याद दिलाती रहेगी

पाटलिपुत्र मेडिकल कॉलेज और रोटरी क्लब मिडटाउन के सहयोग से 154 वीं बटालियन परिसर में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया. जिसमें सीआरपीएफ के 50 अधिकारी व कार्मिकों ने रक्तदान किया. कमांडेंट आलोक वीर यादव ने जानकारी देते हुए कहा कि द्वितीय कमान अधिकारी अमर शहीद हीरा कुमार झा के सम्मान में विनोद नगर स्थित केंद्रीय विद्यालय 1  में भी उनकी अनावरित प्रतिमा पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गयी. अमर शहीद छात्रों के लिए प्रेरणादायक हैं. ऐसे में विद्यालय में लगी अमर शहीद की प्रतिमा बच्चों को देशभक्ति और जज्बा की याद दिलाती रहेगी. वहीं जिला पुलिस के द्वारा पुलिस लाइन में इस साल देश में शहीद हुए सभी 414 पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी गई.  इस अवसर पर शोक परेड का आयोजन किया गया और 2 मिनट का मौन भी रखा गया.

इसे भी पढ़ें : टीएमएच में आयुष्‍मान योजना का लाभ आम लोगों को भी मिले : सीएम

हम पुलिस वाले हर रोज एक लड़ाई लड़ते हैं

परेड के बाद एसएसपी मनोज चोथे समेत तमाम पुलिस  पदाधिकारियों और जवानों ने शहीद बेदी पर अपनी श्रद्धा सुमन अर्पित की. वहीं एसएसपी ने कहा कि झारखंड में कुल 7 जवानों ने अपनी प्राणों की आहुति इस वर्ष दी है. उनमें से तीन जवानों के परिजनों को   सम्मानित किया गया है. अपने शहीद भाइयों के परिजनों को सम्मानित कर हम खुद को सम्मनित महसूस कर रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि हम पुलिस वाले हर रोज एक लड़ाई लड़ते हैं. देश के अंदर शांति और सुरक्षा के लिए हमारे जवान शहीद होते हैं, उनकी शहादत को सीमा  पर  अपने प्राणों की आहुति देने वाले जवानों से कम आंकना मुनासिब नहीं होगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: