HEALTH

हृदय रोग व मधुमेह का कारण बन सकता है नए व्यंजनों को खाने का डर

London : नए व्यंजन से संबंधित डर (फूड नीओफोबिया) किसी व्यक्ति की आहार खुराक गुणवत्ता पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है. साथ ही यह हृदय रोग और मधुमेह टाइप-2 जैसे जीवनशैली से जुड़े रोगों का जोखिम पैदा कर सकता है.

इसे भी पढ़ेंःराशन कार्ड है फिर भी घर-घर मांगकर खाने को विवश वृद्धा, दो साल से नहीं मिला राशन

‘फूड नीओफोबिया’ खानपान संबंधी एक ऐसा विकार है जिसमें व्यक्ति ऐसे व्यंजनों को चखने या खाने से इनकार करता है जिनसे वह परिचित नहीं है. फिनलैंड स्थित हेलसिंकी यूनिवर्सिटी और एस्टोनेशिया स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ टार्टू के रिसर्चर्स ने आहार गुणवत्ता, जीवनशैली से संबंधित रोगों और उनके जोखिम कारकों पर खानपान संबंधी व्यवहार के स्वतंत्र प्रभाव का अध्ययन किया.

विविध और स्वस्थ आहार व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण

फिन्निश नेशनल इंस्टिट्यूट फॉर हेल्थ एंड वेल्फेयर से मार्कुस पेरोला ने कहा कि अध्ययन से इस विचार को बल मिला कि विविध और स्वस्थ आहार व्यक्ति के स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण, यहां तक कि एक स्वतंत्र भूमिका निभाता है. सात साल चले अध्ययन कार्यक्रम में 25 से 74 वर्ष आयु वर्ग के लोगों को शामिल किया गया.

इसे भी पढ़ेंःदर्द-ए-पारा शिक्षक: कर्ज बढ़ा तो पत्नी ने कौशल विकास के तहत कर ली नौकरी, मगर उस काम से  महुआ चुनना बेहतर

अध्ययन में पता चला कि ‘फूड नीओफोबिया’ 78 प्रतिशत मामलों में आनुवंशिक हो सकता है. यह हृदय रोग एवं मधुमेह टाइप-2 जैसे जीवनशैली से जुड़े रोगों का जोखिम पैदा कर सकता है. यह विकार बच्चों और बुजुर्गों में आम होता है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: