DeogharJharkhandMain SliderRanchi

श्रावणी मेले पर HC: ऑनलाइल करें बाबा दर्शन, मेले की अनुमति नहीं

Ranchi: बाबाधाम देवघर में पूजा को लेकर गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे की जनहित याचिका पर हाइकोर्ट में शुक्रवार को फैसला सुनाया गया. कोर्ट ने कहा कि इस साल कोरोना महामारी को देखते हुए ऑनलाइन पूजा का आयोजन किया जायेगा.

इस दौरान श्रद्धालु ऑनलाइन ही भगवान के दर्शन करेंगें. वहीं देश भर में फैले कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए किसी भी तरह के मेले के आयोजन पर भी रोक लगाया गया है. हर साल की तरह इस साल श्रावणी मेले का आयोजन नहीं किया जायेगा.

गौरतलब है कि बालाजी, काशी विश्वनाथ और वैष्णो देवी में ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था की गयी है. उसी तरह देवघर के बाबाधाम मंदिर में भी ऑनलाइन दर्शन की अनुमती कोर्ट के तरफ से दी गयी है.

advt

गौरतलब है कि 30 जून को बाबाधाम देवघर में पूजा को लेकर गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे की जनहित याचिका पर हाइकोर्ट में सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान हाइकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था.

इसे भी पढ़ें- देश में Corona केस में अब तक का सबसे अधिक उछाल, एक दिन में करीब 21 हजार मामले, 379 की मौत

गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे की याचिका पर फैसला

गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने पहले राज्य सरकार से पत्र लिखकर आग्रह किया था कि वो बाबाधाम में पूजा करने की इजाजत दे. उन्होंने यह भी कहा था कि अगर सरकार मंजूरी नहीं देती है तो, वो कोर्ट जाएंगे. अपने कहे अनुसार उन्होंने हाई कोर्ट में बाबाधाम में पूजा शुरू करने को लेकर जनहित याचिक दायर की थी.

चीफ जस्टिस डॉ रविरंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की दो जजों की खण्डपीठ ने 30 जून को सुनवाई पूरी की थी. श्रावणी मेला को लेकर दायर जनहित याचिका पर सरकार की तरफ से कोर्ट में जबाव दिया गया कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए सरकार मंदिर खोलने के पक्ष में नहीं है. लेकिन प्रार्थी ने मंदिर खोलने और मेले की इजाजत देने का आग्रह किया. दोनों पक्षों को सुनने के बाद कोर्ट ने सुरक्षित फैसला रख लिया है.

adv

इसे भी पढ़ें- सरोज खान का आखिरी पोस्ट पढ़ हिल जाएंगे आप, आंखें हो जाएंगी नम

रंग-रोगन कर मंदिर परिसर को दें और भव्यता

इससे पहले 2 जुलाई को सीएम ने दुमका और देवघर डीसी को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीएम ने निर्देश दिये थे. उन्होंने कहा था कि जिला प्रशासन संक्रमण के इस दौर में देवघर और बासुकीनाथ मंदिर के भीतरी और बाहरी परिसरों का निरीक्षण करे.

जहां भी किसी तरह की मरम्मत,  निर्माण,  बदलाव और श्रद्धालुओं की सुविधाओं को देखते हुए कार्य करने की आवश्यकता हो तो यथाशीघ्र करें. बाबा मंदिर और बासुकीनाथ मंदिर का रंग-रोगन कर मंदिर को और भव्यता प्रदान करें. पूरे मंदिर परिसर को हाइजेनिक बनायें. सीएम सोरेन ने कहा कि वे स्वयं मंदिर परिसर को देखने का काम करेंगे, ताकि बदलाव और निर्माण की दिशा में कार्य किया जा सके. इस बीच दोनों जिला के डीसी को सीएम ने निर्देश दिया कि वे मंदिर समिति के लोगों के साथ मंदिर का निरीक्षण कर योजना तैयार करें.

इसे भी पढ़ें- तेजस्वी के बयान पर बोली JDU-BJP– लालू राज में हुए कृत्यों का साया हमेशा आपका पीछा करेंगे तो दोषी आप भी

केंद्रीय गृह मंत्रालय की गाइडलाइन में धार्मिक आयोजन को लेकर जिक्र नहीं

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 30 मई को जो गाइडलाइन जारी की थी, उसमें किसी तरह के धार्मिक आयोजन को लेकर विशेष जिक्र था. गाइडलाइन में कहा गया था कि लॉकडाउन में किसी भी तरह की छूट फेज वाइज दी जायेगी.

पहले और दूसरे फेज में जहां धार्मिक स्थलों, होटलों, शैक्षणिक संस्थानों को खोलने का जिक्र था. वहीं तीसरे फेज में सिनेमा हॉल, स्वीमिंग पूल, धार्मिक कार्यों और किसी तरह के धार्मिक आयोजन का जिक्र था.

तीसरे फेज को लेकर मंत्रालय का स्पष्ट निर्देश था कि स्थिति देख मंत्रालय कोई निर्णय लेगा. जहां तक राज्य में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की बात है, तो पिछले कुछ दिनों से मरीजों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है. हर दिन सैकड़ों की संख्या में मरीज मिल रहे हैं. ऐसे में यह तय है कि इस बार भक्तों को मेले से वंचित रहना पड़ेगा.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button