न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

SC में पीएम मोदी और अमित शाह पर आचार संहिता उल्लंघन मामले में सुनवाई बुधवार को

 SC ने कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव को इजाजत दी है कि वह चुनाव आयोग के फैसलों के रिकॉर्ड दाखिल कर सकती हैं.

65

NewDelhi : पीएम मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर आचार संहिता के उल्लंघन  मामले में  SC में अब बुधवार को सुनवाई होगी.  SC ने कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव को इजाजत दी है कि वह चुनाव आयोग के फैसलों के रिकॉर्ड दाखिल कर सकती हैं.  बता दें कि कांग्रेस सांसद की ओर से पेश वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि  चुनाव आयोग ने इन शिकायतों का निपटारा कर दिया है लेकिन मामला यहीं खत्म नहीं होता.

कहा कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट को विस्तार से विचार करने और इस सबंध में गाइडलाइन जारी करने की जरूरत है. उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव आयोग के फैसले में कारण दिये जायें. सिंघवी  ने कहा कि यह मामला सिर्फ आचार संहिता के उल्लंघन का नहीं है, बल्कि जनप्रतिनिधि अधिनियम के तहत है. कोर्ट केा बताया कि पीएम मोदी के खिलाफ छह मामलों में  पांच में असहमति थी. कांग्रेस को विस्तार से कारण भी नहीं बताये गये. कहा कि ऐसे ही बयानों पर दूसरी पार्टियों के नेताओं को सजा दी गयी.

इसे भी पढ़ें – तेज बहादुर यादव ने वाराणसी से नामांकन खारिज होने पर सुप्रीम कोर्ट में दस्‍तक दी

  कोई रिवाइंड बटन नहीं है गलतियों पर सजा देने का

बता दें कि पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को सोमवार तक पीएम और अमित शाह के खिलाफ शिकायतों पर फैसला करने को कहा था. कांग्रेस सासंद सुष्मिता देव की ओर से अभिषेक सिंघवी ने कहा कि 31 दिनों में दो का निपटारा किया है. इस रफ्तार से 270 दिनों से ज्यादा का समय लगेगा. हमारी शिकायतों के बाद से अब तक चार चरणों मे 350 सीटों के चुनाव हो चुके हैं. कोई रिवाइंड बटन नहीं है.  इनकी गलतियों पर सजा देने का.

इस पर कोर्ट ने चुनाव आयोग से कहा कि बाकी नौ शिकायतों का निपटारा सोमवार से पहले तक कर दिया जाये.  दरअसल  कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने याचिका दाखिल कर कहा है कि सुप्रीम कोर्ट चुनाव आयोग को निर्देश दे कि वह 24 घंटे के भीतर पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह के खिलाफ शिकायतों पर फैसला करे. हालांकि इस बीच चुनाव आयोग ने पीएम मोदी को उनके भाषणों के लिए क्लीन चिट दे दी है.

इसे भी पढ़ें  रमजान में मतदान के समय में बदलाव से चुनाव आयोग का इनकार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: