National

#Lockdown के दौरान SC में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये 593 मामलों की सुनवाई, 215 केस में आया फैसला

विज्ञापन

New Delhi: कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिये देश भर में लॉकडाउन है. इस में अभूतपूर्व लॉकडाउन के दौरान एक महीने में उच्चतम न्यायालय ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये 593 मामलों की सुनवाई की हुई. और उनमें से 215 में फैसला भी सुनाया.

इसे भी पढ़ेंःआखिर कैसे जिला प्रशासन की सिलिंग के बावजूद हिंदपीढ़ी से पलामू पहुंचे तीन लोग, निकले कोरोना पॉजिटिव

उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 संक्रमण के मद्देनजर 23 मार्च को ही याचिकाकर्ताओं और वकीलों के लिये अपने दरवाजे बंद कर दिये थे, लेकिन वर्चुअल तरीके से ऑनलाइन माध्यम से मामलों की सुनवाई का नया रास्ता खोला. हालांकि, इस दौरान उसने अपनी पूर्ण क्षमता के साथ मामलों की सुनवाई नहीं की.

advt

593 केस की हुई सुनवाई

आम दिनों में शीर्ष अदालत एक महीने में औसतन करीब 3500 मामलों का निपटारा करती है. बंद के दौरान अदालत की दो से तीन पीठ ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अत्यावश्यक मामलों की सुनवाई कर रही है, जबकि आम दिनों में अदालत की 16 पीठ सुनवाई करती है.

अदालत द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़े के मुताबिक 23 मार्च से 24 अप्रैल के बीच 17 कार्य दिवस में कुल 87 पीठों ने 593 मामलों की सुनवाई की.
इसे भी पढ़ेंः#FightAgainstCorona : कोरोना हॉटस्पॉट जुरू पंचायत क्षेत्र सील, संक्रमितों के संपर्क में आये परिजनों व अन्य की मेडिकल जांच शुरू

23 मार्च से ही वकीलों-याचिकाकर्ताओं की इंट्री है बैन

देशव्यापी बंद 25 मार्च से शुरू हुआ था, लेकिन उच्चतम न्यायालय ने एक परिपत्र जारी कर 23 मार्च को ही वकीलों और याचिकाकर्ताओं के अदालत परिसर में प्रवेश पर रोक लगा दी थी. परिपत्र में कहा गया था कि सिर्फ अत्यावश्यक मामले शीर्ष अदालत द्वारा बंद के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सुने जाएंगे. केंद्र सरकार ने बंद की अवधि तीन मई तक बढ़ा दी है.

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक 24 अप्रैल तक 84 पुनर्विचार याचिकाओं को निस्तारित किया गया. इसमें कहा गया कि 87 पीठों में से 34 ने मुख्य मामले की सुनवाई की जबकि 53 ने पुनर्विचार याचिकाओं पर फैसला दिया.
आंकड़ों में कहा गया कि इस अवधि के दौरान 390 मुख्य मामलों के साथ ही 203 संबंधित मामलों पर सुनवाई की गई. इसमें कहा गया कि 215 मामलों में फैसला दिया गया जिनमें से 174 संबंधित मामले थे.

adv

सूत्रों ने कहा कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये अपने घरों से सुनवाई कर रहे न्यायाधीशों को उनके आवास पर 100 एमबीपीएस स्पीड के साथ इंटरनेट कनेक्शन उपलब्ध कराया गया है और उन्हें सुनवाई में कोई परेशानी नहीं आ रही.
सूत्रों ने कहा कि कई वकील सुनवाई में अपने मोबाइल फोन या टैबलेट के जरिये जुड़ते हैं, ऐसे में उनके उपकरण पर जब कोई कॉल आती है तो उनका संपर्क टूट जाता है.

इसे भी पढ़ेंःकोरोना का खौफ: जेल में अलग रखे जायेंगे रांची में पकड़े गये विदेशी जमाती

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button