न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गुजरात दंगा फिर सुखिर्यों में, नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट देने के मामले में SC में 19 नवंबर को सुनवाई  

जकिया जाफरी की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस एएम खानविलकर की पीठ ने कहा कि इस मामले पर 19 नवंबर को सुनवाई की जायेगी.

eidbanner
343

NewDelhi :  गुजरात दंगों को लेकर राज्य के तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट देने के मामले में सुप्रीम कोर्ट में 19 नवंबर को सुनवाई होगी.  बता दें कि इस मामले में गुजरात हाईकोर्ट के फैसले को जकिया जाफरी ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. हाईकोर्ट द्वारा मोदी और अन्य को एसआईटी की क्लीन चिट बरकरार रखी गयी थी. मंगलवार को जकिया जाफरी की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस एएम खानविलकर की पीठ ने कहा कि इस मामले पर 19 नवंबर को सुनवाई की जायेगी. जान लें कि पांच अक्टूबर 2017 को  गुजरात हाईकोर्ट ने कहा था कि गुजरात दंगों की दोबारा जांच नहीं होगी. जकिया जाफरी ने कोर्ट में दलील दी थी कि इसके पीछे एक बड़ी साजिश थी, जिसे हाईकोर्ट ने मानने से मना कर दिया था. कोर्ट ने उनसे कहा था कि वह आगे इसकी अपील कर सकती हैं. याचिका में साल 2002 में गोधरा कांड के बाद हुए दंगों के संबंध में राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य को विशेष जांच दल द्वारा दी गयी क्लीन चिट बरकरार रखने के निचली अदालत के फैसले को चुनौती दी गयी थी.

 इसे भी पढ़ें : राफेल मामला फिर गर्माया, कांग्रेस ने कहा, भाजपा सरकार और दसॉ के बीच मैच फिक्स्ड है  

मजिस्ट्रेट के आदेश के खिलाफ आपराधिक पुनर्विचार याचिका दायर की थी.

Related Posts

भारत से मिलकर काम करना चाहता है पाकिस्तान , इमरान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात

दक्षिण एशिया में शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए अपनी इच्छा दोहराते हुए इमरान ने कहा कि वे इन उद्देश्यों को आगे ले जाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के साथ मिलकर काम करने के प्रति आशान्वित हैं.

पूर्व सांसद अहसान जाफरी की पत्नी जकिया और सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के एनजीओ सिटीजन फार जस्टिस एंड पीस ने दंगों के पीछे बड़ी आपराधिक साजिश के आरोपों के संबंध में नरेंद्र मोदी और अन्य को एसआईटी द्वारा दी गयी क्लीन चिट बरकरार रखने के मजिस्ट्रेट के आदेश के खिलाफ आपराधिक पुनर्विचार याचिका दायर की थी.  बता दें कि गुजरात हाईकोर्ट में दायर याचिका में मांग की गयी थी कि मोदी और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों एवं नौकरशाहों सहित 59 अन्य को साजिश में कथित रूप से शामिल होने के लिए आरोपी बनाया जाये. इसमें इस मामले की नये सिरे से जांच के लिए  सुप्रीम कोर्ट के निर्देश की भी मांग की गयी थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: