JharkhandPalamu

पलामू में तीन लाख लोगों का हुआ हेल्थ सर्वे, 3315 मधुमेह रोगी मिले, 1865 कोरोना पॉजिटिव

210 लोगों में कुष्ठ व 669 में मिले यक्ष्मा के लक्षण

विज्ञापन

दिलीप कुमार

Palamu: पलामू जिले में चलाये गये सघन जन सर्वे अभियान में चौकाने वाले तथ्य उभर कर सामने आये हैं. जो रिपोर्ट सामने आयी है, उससे लगता है कि पलामू जिला के लोग विभिन्न बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं, लेकिन जागरूकता के अभाव में लोग लक्षण मिलने के बावजूद बीमारी की पहचान नहीं कर पाते. इस कारण वे इलाज के लिये भी पहल नहीं करते हैं.

इसे भी पढ़ें :मुकेश अंबानी खरीदेंगे अपने भाई अनिल की कंपनी रिलायंस इंफ्राटेल, प्लान पर लगी मुहर…

कोविड को लेकर चलाया गया जन सर्वे अभियान

स्वास्थ्य विभाग की ओर से चलाये गये सघन जन सर्वे अभियान के दौरान विभिन्न तरह की बीमारियों के सैकड़ों मरीजों की पहचान हुई है. पलामू में 3315 मधुमेह के नए मरीज पाए गए हैं. हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों में सामुदायिक स्वास्थ्य पदाधिकारी इनका इलाज कर रहे हैं.
इसी तरह 1865 लोग सर्दी-खांसी से ग्रसित मिले. इनमें कोरोना संक्रमण के लक्षण पाये गये हैं. इन लोगों की स्क्रीनिंग के बाद कोरोना जांच की तैयारी चल रही है. 210 लोगों में कुष्ठ का लक्षण पाये गये हैं. सभी लोगों की स्क्रीनिंग की जा रही है. यक्ष्मा के लक्षण 669 लोगों में मिले हैं. इन लोगों की जांच के लिए बलगम लिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें :सीएम ने BIT सिंदरी को IIT की तरह विकसित करने का दिया निर्देश

रोगों से संबंधित स्क्रीनिंग व जांच

दरअसल, शुक्रवार को सिविल सर्जन कार्यालय सभागार में सामुदायिक स्वास्थ्य पदाधिकारियों के साथ बैठक आयोजित हुई थी. इसकी अध्यक्षता सिविल सर्जन डॉ जान एफ. केनेडी व संचालन कार्यक्रम प्रबंधक दीपक कुमार गुप्ता ने किया. इस दौरान संपन्न हुए सघन जन सर्वे अभियान की समीक्षा की गयी. पाया गया कि तीन लाख लोगों की जांच की गयी थी. इसमें सैकड़ों लोगों में अलग-अलग बीमारियों के लक्षण पाए गए हैं. संबंधित रोग से संबंधित स्क्रीनिंग व जांच की जा रही है.

इसे भी पढ़ें :मेडिको सिटी में साढ़े तीन सौ करोड़ में बनेगा मेडिकल कॉलेज व हॉस्पिटल, 85 फीसदी सीटें झारखंडी छात्रों के लिए होंगी रिजर्व : हेमंत

जिले में 68 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर हैं

जिला कार्यक्रम प्रबंधक दीपक कुमार गुप्ता ने बताया कि समीक्षा के दौरान हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में संचालित कार्यक्रमों की समीक्षा की गयी. तमाम सीएचओ को निर्देश दिया गया है कि वे एनसीडी एप पर मासिक व दैनिक रिपोर्ट जमा करें. साथ ही नियमित रूप से सीएचओ पदस्थापित स्थान पर रहकर कार्य करेंगे. बताया कि जिले भर में 68 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर संचालित हैं.
वहां गाइडलाइन के अनुसार तमाम योजनाएं संचालित होनी चाहिए. लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने के अलावा खेलकूद व योग को बढ़ाना है. उन्होंने कहा कि हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर की अब हर 15 दिनों पर समीक्षा होगी.
मौके पर जिला कुष्ठ पदाधिकारी डा एमपी सिंह, बीपीएम विभूति कुमार, पंकज कुमार पांडेय, शशिकांत, राहुल कुमार, अनुज कुमार आदि उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें :58 लड़कियों को तमिलनाडु ले जाने के मामले में मानव तस्करी का केस दर्ज, एचआर मैनेजर गिरफ्तार

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: