JharkhandLead NewsRanchi

दहेज में रेट बढ़वाने के लिए पढ़ते हैं मेडिकल, किसने बोला ऐसा कि उबल पड़े राज्य के 15 हजार डॉक्टर

Ranchi: राज्य के स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी के बयान के विरोध में 15 हजार डॉक्टर सोमवार को काला बिल्ला लगा कर विरोध कर रहे हैं. स्वास्थ्य सचिव ने चिकित्सा पदाधिकारियों को नियुक्ति पत्र बांटनेवाले कार्यक्रम में एक टिप्पणी कर दी थी.

उन्होंने कहा था कि डॉक्टर अधिक दहेज लेने के लिए पढ़ाई करते हैं या फिर उन्हें काम नहीं करना पड़े इसलिए वे इस पेशे में आते हैं. इस बयान के आने के बाद से डॉक्टर लगातार उनका विरोध कर रहे हैं.

झारखंड हेल्थ स्टेट एसोसिएशन के राज्य सचिव डॉ विमलेश कुमार ने कहा कि स्वास्थ विभाग के गार्जियन और फैमिली हेड को ऐसा वक्तव्य नहीं देना चाहिए था. आइएमए के आह्वान पर झारखंड के लगभग 15 हजार चिकित्सक स्वास्थ्य सचिव के बयान को लेकर सोमवार को काला बिल्ला लगा कर काम कर रहे हैं. स्वास्थ सचिव का वक्तव्य आपत्तिजनक है.

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन रांची के संयुक्त सचिव डॉ अजीत ने कहा कि कोविड काल में जब पूरी दुनिया चिकित्सकों का लोहा मान रही है. ऐसी परिस्थिति में स्वास्थ्य सचिव का बयान दुखद है. उनके बयान से चिकित्सक वर्ग का मन छोटा हुआ है. हम सरकार से मांग करते हैं कि चिकित्सकों को उचित सम्मान दिलाते हुए कार्रवाई करें.

इसे भी पढ़ें : कोरोना काल में 200 करोड़ खर्च नहीं कर सकी हेमंत सरकार, भाजपा के कामों को बता रही अपनी उपलब्धिः रामचंद्र चंद्रवंशी

Related Articles

Back to top button