JharkhandRanchi

स्वास्थ्य विभाग तैयार कर रहा प्रपोजल, राज्य के सदर अस्पतालों में बढ़ेंगी सीटों की संख्या

विज्ञापन

Ranchi: राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए सदर अस्पतालों में सीटों की संख्या को बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है. सदर अस्पताल जिले का सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल होता है. इसलिए एक अस्पताल में कम से कम 20 सीटें बढ़ायी जा सकती हैं. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से प्रपोजल तैयार किया जा रहा है.

यजि ऐसा होता है तो रिम्स जैसे अस्पतालों से बोझ कम होगा. इसके अलावा सरकार इन अस्पतालों में डॉक्टरों की रेग्यूलेरिटी पर भी ध्यान देगी. साथ ही डॉक्टरों की संख्या भी सदर अस्पतालों में वर्तमान के मुकाबले बढ़ायी जायेंगी.

इसे भी पढ़ें – BJP विधायक ढुल्लू महतो के बचाव में रो पड़ी पत्नी, मेरे पति हैं बेकसूर, यौन शोषण पीड़िता चरित्रहीन महिला

advt

राज्यभर में रजिस्टर्ड डॉक्टरों की संख्या 6468

सदर अस्पतालों में सीटों की संख्या बढ़ाने की बात पर विचार तो किया जा रहा है. लेकिन राज्य में सरकारी और प्राइवेट रजिस्टर्ड डॉक्टरों की संख्या मात्र 6468 ही है. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर सीटों की संख्या बढ़ जाने के बाद भी मरीजों का इलाज कैसे संभव है. इसके अलावा यह भी कि राज्य में किसी विशेष बीमारी से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की संख्या बहुत कम है.

इसे भी पढ़ें – ऊर्जा सचिव वंदना डाडेल की रिपोर्ट पर तत्कालीन JBVNL MD राहुल पुरवार को कार्मिक की तरफ से नोटिस

प्राइवेट अस्पतालों में लूटे जा रहे हैं गरीब मरीज, आयुष्मान का नहीं मिलता लाभ

सरकारी डॉक्टरों की कमी होने की वजह से गरीब मरीजों को भी प्राइवेट अस्पतालों का रुख करना पड़ता है. छोटे से छोटे इलाज के लिए भी प्राइवेट अस्पतालों में सीजीएचएस रेट से कई गुणा ज्यादा पैसे वसूले जाते हैं.

आलम यह होता है कि गरीबों को कर्ज लेकर इलाज कराना पड़ता है. इसके अलावा प्राइवेट अस्पतालों में आयुष्मान के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति ही की जाती है. राजधानी के अधिकतर बड़े अस्पतालों ने सिर्फ एक या दो बीमारियों के इलाज के लिए ही खुद को इंपैनल्ड कराया हुआ है. ऐसे में मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में आयुष्मान योजना का लाभ शायद ही मिल पाता है.

इसे भी पढ़ें – हाल-ए-मनरेगा: घाटशिला में बगैर काम के हुआ मजदूरी भुगतान, बकरी शेड बना नहीं लेकिन हो गयी निकासी

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close