HEALTHJamshedpurJharkhandNEWS

Health Alert : बच्चे को बुखार के साथ हाथ, पैर या मुंह में छाले हैं तो हल्के में न लें, तेजी से फैल रही यह बीमारी, जमशेदपुर में 300 से ज्यादा मामले

Jamshedur : अगर आपके छोटे बच्चे हैं तो सावधान हो जाइए. क्योंकि शहर के बच्चे तेजी से एक ऐसी बीमारी के शिकार हो रहे हैं, जिसमें बुखार के साथ बच्चों के मुंह, हाथ और पैरों में छाले पड़ रहे हैं. शहर की मशहूर पीडियाट्रिशियन डॉ राखी सिंह ने बताया कि शहर में यह बीमारी तेजी से फैल रही है. अब तक 300 मामले सामने आये हैं. डॉ राखी सिंह ने बताया कि यह एक वायरल बीमारी है, जिसका नाम कॉक्ससैकीवायरस है. यह एंटिरोवायरस नामक वायरस के कारण होता है. वैसे इसे आम भाषा में हम हैंड फुट माउथ डिजीज के नाम से भी जानते हैं. यह कोई नयी बीमारी नहीं है. पहले भी होती थी, लेकिन कोविड के बाद इसे लेकर पेरेंट्स में काफी जागरूकता और सतर्कता आयी है. इसके बावजूद अभी भी काफी संख्या में ऐसे माता-पिता हैं, जो इस बीमारी के बारे में नहीं जानते. इसका कोई इलाज नहीं है, लेकिन इसका सिम्प्टोमेटिक मैनेजमेंट करना होता है. मतलब बुखार की दवाओं के साथ ही इचिंग और छाले की दवाइयां दी जाती है. लेकिन सबसे अहम यह है कि इस बीमारी के होने के बाद बच्चे को आइसोलेट करना जरूरी होता है, क्योंकि यह बीमारी काफी संक्रामक होती है और दूसरे में तेजी से फैलती है.

  • क्या हैं लक्षण
    बुखार के साथ  मुंह, हाथ और पैरों में छाले
  • किस उम्र में होती है
    दस साल तक के बच्चों को
  • लक्षण दिखे तो क्या करें
    बच्चों को तत्काल स्कूल भेजना बंद कर दें
    डॉक्टर से संपर्क करें

यही नहीं, ऐसे बच्चों को तत्काल स्कूल भेजना बंद कर देना चाहिए ताकि स्कूल के दूसरे बच्चे इसके शिकार नहीं हों. नहीं तो ऐसा होने पर पूरा स्कूल इसके संक्रमण के दायरे में आ सकता है. बकौल डॉ राखी सिंह, दस साल तक के बच्चों को यह बीमारी ज्यादा होती है क्योंकि इनकी इम्यूनिटी कम होती है. बुर्जुगों में भी यह बीमारी हो सकती है. जिनकी इम्यूनिटी अच्छी होती है, उन्हें यह बीमारी नहीं होती है. इसका सीवियर कम्प्लीकेशंस (गंभीर लक्षण) बहुत कम होता है. लेकिन कई बार दिमाग में इसके वायरस के चले जाने के बाद वह मेनेन्जाइटिस का रूप ले लेता है, जो जानलेवा हो सकता है. यह बीमारी बच्चों में जंगल की आग की तरह फैलती है और 7 दिनों तक संक्रमण रहता है. पैरेंट्स को इसके लक्षणों से सावधान रहने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें – जमशेदपुर : एमजीएम के प्रशासक एनके लाल पहुंचे अस्पताल, व्यवस्था में सुधार को लेकर दिये निर्देश

Related Articles

Back to top button