न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2019 में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये के कमजोर होने की आशंका, 78 को छू सकता है

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया लुढ़ककर 78 के स्तर पर आ सकता है.  इसका बड़ा कारण बढ़ता राजकोषीय तथा चालू खाते का घाटा है

17

NewDelhi : अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया लुढ़ककर 78 के स्तर पर आ सकता है.  इसका बड़ा कारण बढ़ता राजकोषीय तथा चालू खाते का घाटा है.  ये दोनों घरेलू मुद्रा के लिए सबसे बड़ी समस्या है. कार्वी की सालाना जिंस एवं मुद्रा रिपोर्ट, 2019 के अनुसार यह साल जिंस और मुद्रा बाजार के लिए मिला-जुला रह सकता है तथा उक्त दोनों घाटों के कारण डॉलर के मुकाबले रुपये की विनिमय दर में और गिरावट आ सकती है. कार्वी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (जिंस और मुद्रा) रमेश वाराखेदकर ने कहा, डॉलर के मुकाबले रुपया 68 से 69.50 के आधार से ऊपर जा सकता है.  इसके 73.70 से 74.50 के स्तर तक जाने की आशंका है.  उन्होंने आगे कहा कि अगर भारतीय मुद्रा 74.50 के स्तर को पार करता है, तब यह 2019 में लुढ़ककर 78 के स्तर तक जा सकता है.  चुनावी वर्ष को देखते हुए विदेशी संस्थागत निवेशक और विदेशी प्रत्यक्ष निवेशक भारतीय बाजार में निवेश से बचने का प्रयास कर सकते हैं.

2019 सर्राफा वर्ष हो सकता है

इसका कारण चुनाव परिणाम को लेकर अनिश्चितता है.  रिपोर्ट में कहा गया है, हम सामान्यत: देखते हैं कि निजी निवेश चुनावी वर्ष में कम होता है.  इससे चालू खाते का घाटा (कैड) या भुगतान संतुलन (बीओपी) में 2018-19 की दूसरी छमाही में सुधार की संभावना नहीं है.  कैड 2018-19 की पहली छमाही में 34.94 अरब डॉलर था जो पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में 48.72 अरब डॉलर था.  वहीं भुगतान संतुलन 2018-19 की पहली छमाही में 13.20 अरब डॉलर प्रतिकूल था. वाराखेदकर ने यह भी कहा कि 2019 सर्राफा वर्ष हो सकता है, जहां सुरक्षित निवेश के रूप में लिवाली से सोना और चांदी का प्रदर्शन बेहतर रहने का अनुमान है.

इसे भी पढें : प्रियंका गांधी की एंट्री से यूपी में लगेगा सपा-बसपा को झटका, एनडीए को फायदा : सर्वे

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: