HazaribaghJharkhand

हजारीबागः दस दिनों से लापता दो युवकों का अब तक नहीं मिला सुराग, पुलिस की बढ़ी बेचैनी

Hazaribagh: हज़ारीबाग जिले के कटकमसांडी थाना अंतर्गत कटकमसांडी के ही रहनेवाले दो युवक पिछले 10 दिनों से लापता हैं, जिनका कोई सुराग अभी तक नहीं मिल पाया है. दोनों युवक 18 मई से लापता हैं. दोनों युवक तोपा स्थित मंदिर में पूजा-अर्चना करने के लिए अपने-अपने घर से निकले थे. परिजनों के काफी खोजबीन के बाद भी कोई सुराग नहीं मिल पाया है. परिजनों ने इस संबंध में लापता युवक दीपू सिंह के परिजन ने सदर थाना हज़ारीबाग में अपहरण का मामला दर्ज कराया है. सदर थाना कांड संख्या 148/19 है. थाने में दिये गये आवेदन में कई लोगों के नाम भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – 47.8 प्रतिशत कुपोषण वाले झारखंड में डेढ़ माह से नौनिहालों का अंडा बंद

उग्रवादी संगठनों पर भी शक

Catalyst IAS
ram janam hospital

परिजनों अपहरण का शक उग्रवादी संगठन और आपराधिक गिरोह पर भी जता रहे हैं. सदर थाने में अपहरण का मामला दर्ज करने के बाद पुलिस मोबाइल डिटेल के आधार पर दोनों युवकों को तलाशने में जुटी है. लापता दोनों युवक कटकमसांडी निवासी सत्येंद्र सिंह के पुत्र दीपू सिंह उर्फ रजनीकांत सिंह और दूसरा अशोक सिंह के पुत्र शिवजीत सिंह हैं. लापता हुए 10 दिन बीत जाने के बाद भी न तो दोनों युवक वापस आये हैं और न ही पुलिस उसका कोई सुराग ढूंढ़ पायी है. इस मामले में दीपू सिंह के चाचा शिवपाल सिंह के बयान पर सदर थाना में मामला दर्ज किया गया है. आवेदन में लिखा है कि घर से निकलते वक्त 18 मई को नितीश राणा ने दीपू सिंह की बात नीरज गंझू से करायी थी जो नक्सलियों से सांठगांठ रखता है. मामले का अनुसंधान सदर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर नीरज सिंह कर रहे हैं. पुलिस मोबाइल लोकेशन और कॉल डिटेल का अनुसंधान कर रही है. विभिन्न थाना क्षेत्र के आसपास से लेकर पतरातू, बड़कागांव और घाटी के जंगलों में भी की लेकिन अभी तक कोई सुराग नहीं पता चल पाया है.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें – बाबूलाल की नैतिकता को जागने में लग गये 37 दिन

क्या कहती है पुलिस

अनुसंधान में जुटी पुलिस का कहना है कि दोनों युवक नक्सली संगठन से जुड़े थे. एक बार जेल भी गया है. सूचना है कि दीपू सिंह ने जेल से आने के बाद अपराधी गिरोह से हाथ मिला लिया था. जिसके बाद फिर वह श्रीवास्तव गिरोह का भी काम करने लगा था. पुलिस तीनों अपराधी गिरोह से जुड़े लोगों के कॉल डिटेल भी खंगाल रही है जबकि शिवजीत सिंह के पिता की वर्षों पहले माओवादियों ने हत्या कर दी थी. अपहृत युवक शिवजीत सिंह कटकमसांडी का बांझा का रहनेवाला है. फिलहाल इस पूरे मामले में हजारीबाग पुलिस अधीक्षक का कहना है कि पुलिस अपने अनुसार मामले की जांच कर रही है. अब तक कोई पुख्ता जानकारी पुलिस नहीं जुटा पायी है.

इसे भी पढ़ें – पलामू: माओवादियों की बड़ी साजिश नाकाम, पांच लैंड माइंस समेत भारी मात्रा में हथियार बरामद

Related Articles

Back to top button