न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हजारीबाग: त्रिवेणी सैनिक कंपनी के GM की हत्या, PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप ने ली जिम्मेवारी

1,393

Hazaribagh: एनटीपीसी की आउटसोर्सिग कंपनी त्रिवेणी सैनिक के जीएम गोपाल सिंह की बुधवार रात गोली मारकर हत्या कर दी गयी. हत्या की जिम्मेवारी पीएलएफआइ सुप्रीमो दिनेश गोप ने ली है.

पीएलएफआइ सुप्रीमो दिनेश गोप प्रेस रिलीज जारी करते हुए कहा है कि हजारीबाग त्रिवेणी सैनिक कंपनी के जीएम गोपाल सिंह की हत्या की जिम्मेदारी पीएलएफआइ संगठन लेता है.

Sport House

गौरतलब है कि गोपाल सिंह की हत्या उस वक्त कर दी गयी थी जब वो बुधवार की रात सदर थाना क्षेत्र स्थित जुलू पार्क के पास किसी से मिलकर अपने घर लौट रहे थे.

इसे भी पढ़ें- #Secondphase: 2 सीटिंग सीट के साथ कांग्रेस का सिमडेगा और पश्चिमी जमशेदपुर सीट पर है पूरा जोर

क्या है प्रेस रिलीज में

पीएलएफआइ सुप्रीमो दिनेश गोप के नाम से जारी किये गये प्रेस रिलीज में कहा गया है कि त्रिवेणी सैनिक कंपनी के जीएम गोपाल सिंह की हत्या इसलिए कर दी गयी क्योंकि उसने गरीब किसानों की जमीन पर अवैध कब्जा, खेतों पर बुलडोजर चलवाया, बाहरी लोगों को नौकरी दिया, पीएलएफआइ संगठन के नाम से करोड़ों की वसूली और पार्टी सुप्रीमो दिनेश गोप को एक महीने के अंदर मारने का धमकी दी थी.

Mayfair 2-1-2020

पीएलएफआइ सुप्रीमो दिनेश गोप के नाम से जारी किये गये प्रेस रिलीज में कहा गया है कि जब-जब आम जनता गरीब लोगों पर अन्याय, अत्याचार होगा तब-तब जनता का रक्षक बनकर कोई आयेगा.

इसे भी पढ़ें- आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर कोयरीबान्ध सड़क के बीच लगे भाजपा-कांग्रेस के झंडे हटाये गये

बुधवार रात गोली मारकर कर दी गयी थी हत्या

त्रिवेणी सैनिक कंपनी के जीएम गोपाल सिंह बुधवार की रात किसी से मिलने के लिए जुलू पार्क पहुंचे थे. वहां करीब आधा घंटा बिताने के बाद वापस लौटने की तैयारी कर रहे थे. लेकिन इसी दौरान अज्ञात अपराधियों ने उन्हें गोली मार दी.

स्थानीय लोगों ने गोली मारे जाने की सूचना पुलिस को दी. और गोपास सिंह को अस्पताल लेकर गये लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. घटना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची अपराधियों के द्वारा फेंके गये पिस्टल को बरामद किया.

पूरी घटना में बड़ी बात यह है कि बड़कागाव में एनटीपीसी के कोल प्रोजेक्ट से जुड़े कंपनी के डीजीएम गोपाल सिंह बॉडीगार्ड के साथ चलते थे, उनकी अपनी गाड़ी भी थी, पुलिस सुरक्षा भी मिली हुई थी. फिर भी वह रात नौ बजे अकेले ही किसी से मिलने पहुंचे थे.

गोपाल सिंह कंपनी में 2 साल से जीएम थे. उनके नेतृत्व में ही कंपनी के द्वारा कोयला निकालने का कार्य शुरू किया गया था. पहले भी उन्हें नक्सलियों के द्वारा धमकी मिल चुकी थी. इसके बाद कंपनी समेत अधिकारियों की सुरक्षा भी बढ़ायी गयी थी.

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like