न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हजारीबाग: उम्रकैद की सजा काट रहे कैदी ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

640

Hazaribagh: हजारीबाग के जेपी कारा में हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे योगेश चौहान नाम के कैदी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. कैदी धनबाद जिले के झरिया का रहने वाला था.

एक सप्ताह पहले ही योगेश चौहान को धनबाद जेल से हजारीबाग जेल शिफ्ट किया गया था. पुलिस ने कैदी के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. वहीं जेल प्रशासन में मृतक के परिजनों को घटना की जानकारी दे दी है.

Sport House

इसे भी पढ़ें- रांची में तीन इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारियों का तबादला, तबादले की वजह कहीं ये तो नहीं

उम्रकैद की सजा काट रहा था योगेश

हत्या के मामले में कोर्ट ने योगेश को आजीवन कारावास की सजा सुनायी थी. बताया जा रहा है कि योगेश मानसिक रूप से अस्वस्थ था. उसकी बीमारी का इलाज चल रहा था.

हजारीबाग जेपी कारा जहां कैदी योगेश एक सप्ताह पहले ही सिफ्ट हुआ था. कैदी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

वहीं यह आशंका जतायी जा रही है कि मानसिक रूप से बीमार होने के कारण ही उसने आत्मत्या की हो. बताया जा रहा है कि फांसी लगाने के लिए उसने पायजामा का इस्तेमाल किया था.

Related Posts

#Bermo: आजादी की लड़ाई में शहादत रहा है CPI का इतिहास- भुवनेश्वर मेहता

बेरमो में भाकपा का 94वां स्थापना दिवस समारोह आयोजित

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें- #ArmyDay पर बोले आर्मी चीफ नरवाणेः घाटी से अनुच्छेद 370 हटाना ऐतिहासिक कदम

संदेह के घेरे में केंद्रीय कारा प्रशासन की सुरक्षा 

जिस तरह से हजारीबाग जेपी कारा में कैदी के फांसी लगाने की घटना सामने आयी है इससे केंद्रीय कारा की सुरक्षा पर संदेह हो रहा है. यह कोई पहली बार की घटना नहीं है.

इससे पहले भी बीते वर्ष अगस्त महीने में हजारीबाग स्थित जेपी सेंट्रल जेल में बंद कैदी धीरेंद्र यादव ने जूतों के फीतों से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. फंदा बनाने के लिए उसने गमझे का उपयोग किया था. वहीं इससे पहले 2011 में एक महिला कैदी ने वार्ड की खिड़की की राॅड से फांसी लगा ली थी.

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like