HazaribaghJharkhand

हजारीबाग : फुटका बेचकर घर लौट रही विधवा से छेड़छाड़, मामला पहुंचा थाने

Hazaribagh : इचाक थाना क्षेत्र के लोटवा गांव में विधवा से छेड़खानी का मामला प्रकाश में आया है. घटना चार जून की बताई जा रही है. इस बाबत पीड़िता ने इचाक थाना में आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है.

थाना को सुपुर्द आवेदन में विधवा मुनिया मसोमात ने कहा है कि वह चार जून को इचाक मोड़ बाजार से फुटका बेचकर जंगल के रास्ते पैदल अपने गांव लौट रही थी. इसी क्रम में पीछे से पिकअप सवारी वाहन को लेकर एक ड्राइवर आ रहा था. जिसके साथ केबिन में दो अन्य युवक बैठे थे.

महिला ने बताया की गाड़ी को आता देख वो सड़क हटकर चलने लगी, इसी बीच चालक ने गाड़ी धीरे कर मुझे पैसे का लालच देकर गंदी हरकत करने लगा. मेरे विरोध करने के बाद गाड़ी में सवार तीनों युवक लोटवा गांव के जगदीश रविदास के घर टेंट का सामान लोड करने लगे.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें :जेएमएम ने केंद्र के फैसले को बताया वाजिब, कहा 21 जून तक वैक्सीनेशन अभियान का कैलेंडर जारी करे केंद्र सरकार

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

इसी बीच महिला ने घर पहुंचकर परिजनों को घटना की जानकारी दी. जिसके बाद परिजन एवं घरवाले उक्त आरोपियों से पूछताछ करने जगदीश रविदास के घर गए. जिसके बाद विवाद बढ़ गया.

महिला ने बताया कि जगदीश राम ने चालक को कमरे में बंद कर दिया और स्वयं जगदीश रविदास उसका बेटा प्रकाश रविदास, विकास रविदास, मुकेश रविदास , सीताराम रविदास लाठी डंडा से हम लोगों के ऊपर वार कर दिया.

इतने में जगदीश के घर में बंद चालक ने फोन कर तिलिर, पदमा से 15 -20 युवकों को बुला लिया. जिसके बाद आरोपी पक्ष के लोग मेरे परिवार के घर में घुस गए और बेरहमी से मारपीट कर दी.

जिसमें बिरसा भुइयां, प्रभु भुईयां ,मुनिया देवी, कौशल्या मोसमत, सुखदेव भुइयां, सूरज कुमार , पूनम देवी ,नागेश्वरी देवी, संगीता देवी, टिंकू देवी, महेश्वरी देवी तथा रूबी कुमारी घायल हो गयी. घटना के समय पीड़िता के घर के पुरुष सदस्य मजदूरी करने बाहर गए थे. मामले को लेकर चार दिनों तक पंचायत भी हुई पर समझौता नहीं हुआ.

इसे भी पढ़ें :झारखंडः कोरोना की दूसरी लहर में 60 से अधिक उम्रवालों की ज्यादा हुई मौत

जिसके बाद पीड़िता के द्वारा इचाक थाना में आवेदन दिया गया. आवेदन के आलोक में त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस ने पिकअप वैन को जप्त कर थाना ले गयी है. साथ ही मामले के तीन आरोपियों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया है.

इधर पीड़ित पक्ष के लोगों ने पुलिस वालों पर न्याय दिलाने में भेदभाव बरतने तथा दोषियों के खिलाफ केस दर्ज करने में आनाकानी करने का आरोप लगा रहा है.

मामले में आरोपी पक्ष के जगदीश रविदास ने कहा की मुनिया देवी द्वारा मेरे ऊपर लगाया गया आरोप निराधार है. मामले में थाना प्रभारी देवेंद्र कुमार ने कहा घटना के आलोक में विधवा मुनिया मसोमात और जगदीश रविदास के आवेदन पर मामला दर्ज कर लिया गया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

इसे भी पढ़ें :  TAC गठन पर भाजपा और झामुमो में रार, एक दूसरे पर लगा रहे दिग्भ्रमित करने का आरोप

Related Articles

Back to top button