HazaribaghJharkhand

हजारीबाग : कोरोना की संभावित तीसरी तरह को लेकर डीएमएफटी की बैठक, विधायक और उपायुक्त भी रहे मौजूद

Hazaribagh : जिला खनिज फाउंडेशन ट्रस्ट (डीएमएफटी) हजारीबाग जिले की अति महत्वपूर्ण बैठक गूगल मीट के जरिए बुधवार को आयोजित हुई. बैठक में डीसी समेत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मौजूद रहे. बतौर सदस्य हजारीबाग सदर विधायक मनीष जायसवाल भी जुड़े. उन्होंने कोरोना संक्रमण के संभावित तीसरी लहर को देखते हुए हजारीबाग उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद द्वारा मेडिकल इक्विपमेंट खरीदने के प्रस्ताव को एक अच्छा और सराहनीय कदम बताया साथ ही विधायक जायसवाल ने इस संबंध में चिंता जाहिर करते हुए अपने स्तर से दो प्रमुख सुझाव और प्रस्ताव बैठक के दौरान रखा.

विधायक मनीष जायसवाल ने कहा की मेडिकल इक्विपमेंट की खरीदारी करनी जरूरी है, लेकिन इन इक्विपमेंट को संचालित करने के लिए मेन पॉवर की नियुक्ति करना भी अत्यधिक आवश्यक है.

उन्होंने कहा कि विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र में अवस्थित पीएचसी और सीएचसी में चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉक्टर की घोर कमी है. संभवतः किसी सीएचसी और पीएचसी में कहीं भी पेडियाट्रिसियन पदस्थापित नहीं हैं.

इसे भी पढ़ेंः नाती ने अपने नाना की पत्थर से कूचकर की हत्या

advt

अगर है भी तो वे अपना ड्यूटी अच्छे से नहीं करते हैं. ऐसे में अगर तीसरी लहर का प्रभाव ग्रामीण क्षेत्रों में पड़ा तो एचएमसीएच का लोड व्यापक स्तर पर बढ़ जाएगा. इसलिए हमें तैयार रहने की जरूरत है.

विधायक मनीष जायसवाल ने इसके लिए डएमएफटी फंड से सभी सीएचसी और पीएचसी में चाइल्ड स्पेशलिस्ट की नियुक्ति करने का प्रस्ताव रखते हुए इस पर विचार करने का आग्रह उपायुक्त हजारीबाग से किया.
इसके अलावे विधायक मनीष जायसवाल ने संभावित तीसरी लहर की तैयारी को लेकर बच्चों के लिए विशेष सर्व सुविधा संपन्न पेडियाट्रिक एंबुलेंस भी डीएमएफटी फंड से खरीदने का प्रस्ताव दिया.

इन दोनों महत्वपूर्ण सुझाव सह प्रस्ताव पर उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद ने गंभीरता से लेते हुए कहा की आपके द्वारा प्राप्त सुझाव पर हम कार्रवाई अवश्य करेंगे.
पीएचसी और सीएचसी स्तर पर जरूरत के मुताबिक संविदा के आधार पर एक साल की अवधि के लिए चाइल्ड स्पेशलिस्ट चिकित्सक की नियुक्ति की जायेगी. साथ ही स्पेशलिस्ट टेक्निकल स्टॉप की नियुक्ति के लिए प्रबंध समिति को सरकार के नियम कानून और सेवा शर्तों के आधार पर नियुक्ति करने की जवाबदेही दी जाएगी.
इसके अलावे आवश्यकता के आधार पर पेडियाट्रिक एंबुलेंस खरीदने के लिए भी अनुमति प्रदान की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंः Jharkhand News: अनुसूचित जिलों में 100 फीसदी आरक्षण के नियम रद्द करने की फाइल राजभवन में, हो रही समीक्ष

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: