HazaribaghJharkhand

#Hazaribag : हत्या के मामले में सरकारी गवाह नहीं बनने पर पुलिस ने CCL के प्रशिक्षु इंजीनियर को पीटा, जांच के आदेश

विज्ञापन
  • परिजनों ने अस्पताल में भर्ती कराया, डीआइजी से की लिखित शिकायत
  • डीआइजी ने एसपी को दिया मामले की जांच का आदेश

Hazaribag: हत्या के एक मामले में पुलिस के दबाव के बावजूद सरकारी गवाह नहीं बनने पर सीसीएल के प्रशिक्षु इंजीनियर आनंद वर्मा को पुलिस के थर्ड डिग्री टॉर्चर से गुजरना पड़ा है.

बड़कागांव, उरीमारी थाने व विष्णुगढ़ एसडीपीओ कार्यालय में भिन्न-भिन्न अधिकारियों द्वारा की गयी मारपीट से खून की उल्टी होने के बाद पुलिस ने युवक के परिजनों को बुलाया. परिजनों ने उसे स्थानीय लाइफ केयर अस्पताल में भर्ती कराया.

इस संबंध में घायल युवक के परिजनों ने हजारीबाग रेंज के डीआइजी को आवेदन सौंपा है जिसमें बड़कागांव समेत विभिन्न थानों की पुलिस पर अलग-अलग ठिकानों पर ले जाकर थर्ड डिग्री टॉर्चर कर गंभीर रूप से घायल करने का आरोप लगाया है.

इस आवेदन पर डीआइजी अमोल बेनुकान्त होमकर ने मामले की जांच कराने का आदेश हजारीबाग एसपी को दिया है.

इसे भी पढ़ें – #Palamu : क्वारंटाइन सेंटर पर बुखार से तपते युवक ने तोड़ा दम, टेस्ट में निगेटिव पाया गया

सरकारी गवाह बनने का दबाव बनाया जा रहा था

घायल युवक बड़कागांव निवासी आनन्द कुमार वर्मा के परिजनों का कहना है कि युवक को जबरन उस मामले में सरकारी गवाह बनने का दबाव बनाया जा रहा था जिसमें वह नामजद है ही नहीं.

इसी को लेकर उसकी पिटाई की गयी. हजारीबाग रेंज के डीआइजी एवी होमकर ने मामला संज्ञान में आने के बाद जांच का आदेश हजारीबाग एसपी को दिया है.

उन्होंने कहा है कि जांच में मामला सही पाया गया तो कड़ी कार्रवाई होगी.

इसे भी पढ़ें – चासनाला खान हादसा: सुपरवाइजर से लिया जा रहा था मजदूर का काम, माइनिंग सरदार और ओवरमैन थे गायब

परिजनों की शिकायत- दो दिनों तक पुलिस ने पीटा

डीआइजी को दिये गये शिकायत पत्र में घायल युवक की मौसी गीताली वर्मा (पीएचडी कॉलोनी, बरियातू, रांची) ने कहा है कि उनकी बहन का बेटा आनंद कुमार वर्मा पिता सुरेश कुमार वर्मा बड़कागांव हजारीबाग का रहने वाला है.

21 मई को बड़कागांव थाना प्रभारी सपन कुमार महतो, डाड़ी कला थाना प्रभारी धनंजय कुमार एवं पुलिस निरीक्षक गणेश कुमार सिंह ने आनंद को रांची के पीएचडी कालोनी से गिरफ्तार कर उरीमारी थाना लाया.

यहां से उसे नकाब पहना कर सिलवार स्थित बिष्णुगढ़ एसडीपीओ ओमप्रकाश के कार्यालय पर ले जाया गया. दोनों जगह प्रशिक्षु दारोगा अभिषेक सिंह एवं शिवदयाल सिंह उसे जानवर की तरह पिटवाते रहे.

दो दिनों तक लगातार भूखे प्यासे रखकर हर दस दस मिनट पर मारपीट करते रहे. टीम में शामिल केरेडारी थाना प्रभारी बमबम कुमार एवं डाड़ीकला थाना प्रभारी धनंजय कुमार ने आनंद कुमार वर्मा के साथ खूब मारपीट की.

उसके मुंह और नाक से खून की उल्टी भी होने लगी थी. मारपीट से उसके पूरे शरीर में गंभीर जख्म हो गये है. एक पैर भी सुन्न हो गया है.

इसे भी पढ़ें – कोरोनाकाल में मजदूरों की घर वापसी और रोजगार के सवाल

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close