Khas-KhabarNational

हाथरस केसः हाईकोर्ट में सुनवाई आज, कड़ी सुरक्षा के बीच पीड़िता के परिजन लखनऊ रवाना

Lucknow: उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड को लेकर इलाहाबाद की लखनऊ बेंच में सोमवार को सुनवाई होगी. इसे लेकर हाथरस में कथित गैंगरेप की शिकार पीड़िता के परिजन कड़ी सुरक्षा के बीच लखनऊ रवाना हुए. कड़ी सुरक्षा के बीच पीड़िता के परिजन कोर्ट में पेश होंगे और अपना बयान दर्ज करेंगे. साथ ही  हाईकोर्ट ने उन तमाम अधिकारियों को भी तलब किया है, जिनपर इस केस में लापरवाही बरतने का आरोप है.

Advt

इसे भी पढ़ेंः हजारीबाग के बरकट्ठा में कार एक्सीडेंट, दो की मौत, तीन जख्मी

कड़ी सुरक्षा के बीच पीड़िता के परिजन लखनऊ रवाना

पीड़िता के परिवार की सुरक्षा के लिये उप्र शासन द्वारा नोडल अधिकारी बनाये गये पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआइजी) शलभ माथुर ने न्यूज एजेंसी  को बताया, ‘सुबह करीब छह बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में पीड़िता के परिजनों को लखनऊ भेजा गया है . इनमें पीड़िता की मां, तीन भाई और पिता शामिल हैं. इनके साथ मजिस्ट्रेट अंजली गंगवार और पुलिस क्षेत्राधिकारी के अलावा, परिवार की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी और पीएसी के जवान भी गये है.’ माथुर ने बताया कि परिवार की सुरक्षा में पुलिस की पांच एस्कॉर्ट गाड़ी भी साथ-साथ चल रही है और इनके दोपहर 12 बजे तक लखनऊ पहुंचने की उम्मीद है.

इसे भी पढ़ेंः बिहार चुनावः केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे का कटा पत्ता, जगन्नाथ मिश्र के पुत्र पर बीजेपी ने फिर जताया भरोसा

केस के आला अधिकारियों को कोर्ट ने किया है तलब

बता दें कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने हाथरस कांड का स्वत: संज्ञान लेते हुए इस मामले में आला अधिकारियों को एक अक्टूबर को तलब किया था. अदालत पीड़ित परिवार के बयान दर्ज करेगी. पीठ ने एक अक्टूबर को ही घटना के बारे में बयान देने के लिए मृत पीड़िता के परिजनों को बुलाया था. न्यायमूर्ति राजन राय और न्यायमूर्ति जसप्रीत सिंह ने एक अक्टूबर को प्रदेश के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक और अपर पुलिस महानिदेशक को घटना के बारे में स्पष्टीकरण देने के लिए 12 अक्टूबर को अदालत में तलब किया था.
यह मामला न्यायमूर्ति पंकज मित्तल और न्यायमूर्ति राजन राय की पीठ के समक्ष सोमवार को दोपहर बाद सवा दो बजे सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है .

गौरतलब है कि 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र में 19 साल की एक दलित लड़की से अगड़ी जाति के चार युवकों ने कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया था. इसके बाद उसे नाजुक हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां से बाद में उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया जहां 29 सितंबर को उसकी मृत्यु हो गई थी. इस घटना को लेकर विपक्ष ने राज्य सरकार पर जबरदस्त हमला बोला था.

इसे भी पढ़ेंः Corona संकट के बीच अलग होगा चुनावी दंगलः जनसभा से पहले पॉलिटिक्ल पार्टी को लेनी होगी अनुमति

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button