न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीह में हार्डकोर नक्सली ने किया आत्मसमर्पण, अजय महतो दस्ते का था सदस्य

आत्मसमर्पण नीति से मुख्यधारा में लौट रहे नक्सली

927

Giridih : जिले के पारसनाथ इलाके में सक्रिय नक्सली बाबूचंद मरांडी उर्फ सूरज ने शनिवार को आत्मसमर्पण किया. गिरिडीह पुलिस और जिला प्रशासन द्वारा पुलिस लाइन में आयोजित एक कार्यक्रम में डीसी मनोज कुमार और एसपी सुरेन्द्र कुमार झा के समक्ष विधिवत तरीके से नक्सली बाबूचंद का आत्मसमर्पण कराया गया.

इसे भी पढ़ें- छह सालों से आदिम जनजाति की बुजुर्ग को नहीं मिल रही पेंशन, अब खाने के भी पड़े लाले

कई कांडों में था शामिल

एसपी सुरेन्द्र कुमार झा ने जानकारी दी कि बाबूचंद निमियाघाट थाना के बंदखारो गांव का रहने वाला है और कुख्यात नक्सली अजय महतो दस्ते का प्रमुख और सक्रिय सदस्य है. उन्होंने बताया कि नौ जून 2007 में कोबरा और गिरिडीह पुलिस की संयुक्त टीम के साथ नक्सली मुठभेड़ में बाबूचंद भी शामिल था. साथ ही वह कई काडों में वांछित था. इसका आत्मसमर्पण करना एक सकारात्मक कदम है.

इसे भी पढ़ें- आदिवासियों की जमीन छीन पूंजीपतियों को देने की साजिश रच रही है सरकार : रमा खलखो

आत्मसमर्पण नीति से मुख्यधारा में लौट रहे नक्सली

इस मौके पर गिरिडीह डीसी और एसपी ने कहा कि भटके हुए नौजवानों को मुख्यधारा में शामिल करने के लिए सरकार ने आकर्षक आत्मसमर्पण नीति शुरू की है. इससे नक्सली प्रभावित होकर मुख्यधारा में लौट रहे हैं. उच्च अधिकारियों ने कहा कि पारसनाथ की धरती की पहचान अहिंसा की भूमि की रही है. लेकिन कुछ वर्षों में माओवादी गतिविधियों के कारण यह तीर्थक्षेत्र अशांत रहा है. यह पहला मौका है कि पारसनाथ क्षेत्र से किसी नक्सली ने आत्मसमर्पण किया है. इस मौके पर एसडीपीओ मनीष टोप्पो और डीएसपी वन पीके मिश्र समेत पुलिस के कई पदाधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें- नौ जिले के पानी में घुल रहा जहर ! फ्लोराइड, आर्सेनिक व शीशा की मात्रा WHO के मानकों से ज्यादा

इसे भी पढ़ें- क्या सरकार नहीं चाहती कि बनें और धोनी? चार साल बीतने को हैं, फिर भी नहीं बन सकी खेल नीति

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: