Lead NewsSportsTOP SLIDERTRENDING

BCCI से जुड़ने के सवाल पर हरभजन सिंह का करारा जवाब, कहा- ‘मुझे किसी के तलवे नहीं चाटने हैं…’

3-4 साल पहले संन्यास ले लेना चाहिए था

Mumbai : भारत के पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने हाल में क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास लिया है. संन्यास के बाद उनके भविष्य को लेकर कई तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं. किसी का कहना है कि वह अब पंजाब विधानसभा चुनाव में उतरेंगे तो कुछ लोगों का कहना है कि वह आईपीएल में किसी टीम के साथ बतौर सपोर्ट स्टाफ जुड़ने वाले हैं.

हालांकि, भज्जी भविष्य में क्या करेंगे यह तो वक्त ही बताएगा. लेकिन फिलहाल उन्होंने साफ कर दिया है कि वह किसी भी तरह से ‘समझौता’ नहीं करेंगे.

इसे भी पढ़ें :प्रयागराज नगर निगम ने सीडीसी को कर दिया टर्मिनेट, RMC दे रहा काम सुधारने का मौका

ram janam hospital
Catalyst IAS

सही को सही और गलत को गलत कहता हूं

The Royal’s
Sanjeevani

दिग्गज ऑफ स्पिनर से जब यह पूछा गया कि रिटायरमेंट के बाद भी खिलाड़ी जल्दी बीसीसीआई से पंगा नहीं लेते हैं, ऐसे में उनका आगे का क्या प्लान है तो भज्जी ने जी न्यूज के साथ बातचीत में कहा, ‘मैं एक ऐसा इंसान रहा हूं जो सही को सही और गलत को गलत कहता है.

मुझे लगता है कि जिस किसी को एक ईमानदार आदमी की कद्र होती है, वह मुझे जरूर कहेंगे कि आप आइए और ये काम करना है और आप कर सकते हो. मुझे किसी के तलवे नहीं चाटने हैं कि मुझे कोई खास काम दिया जाए. फिर चाहे वह किसी भी क्रिकेट एसोसिएशन का काम हो या किसी भी तरह से हो. मैं कड़ी मेहनत करके यहां तक पहुंचा हूं.’

इसे भी पढ़ें :5 करोड़ रुपये बंगले में पहुंचा दो या प्रॉपर्टी पत्नी के नाम कर दो…अहमदाबाद जेल से पूर्व सांसद अतीक अहमद ने फिर दी धमकी

संन्यास की  टाइमिंग ठीक नहीं थी

41 साल के हरभजन ने माना कि उन्हें 3-4 साल पहले ही संन्यास ले लेना चाहिए था. उन्होंने कहा, ‘लेट जरूर हूं. इस नतीजे पर मैं लेट पहुंचा हूं. मुझे 3-4 साल पहले ही संन्यास ले लेना चाहिए था. टाइमिंग ठीक नहीं थी.

साल के अंत में सोचा कि किसी और तरीके से क्रिकेट की सेवा करूं. मेरी खेलने की लालसा अब वैसी नहीं रही जैसी पहले थी. 41वें साल में इतनी मेहनत करने का मन नहीं करता, सोचा कि आईपीएल खेलना है तो मेहनत बहुत लगेगी. देखना है अब आगे कैसे खेल की सेवा करूंगा.’

इसे भी पढ़ें :एक्सेंचर दे रहा फीमेल स्टूडेट्स को सालाना साढ़े चार लाख का जॉब ऑफर, मारवाड़ी कॉलेज में जमा करें एप्लीकेशन

मैदान से संन्यास नहीं लेने का है मलाल

भज्जी ने कहा, ‘हर खिलाड़ी भारत की जर्सी पहनकर संन्यास लेना चाहता है लेकिन किस्मत हमेशा साथ नहीं देती और कई बार आप जो चाहते हैं वह नहीं होता. आपने वीवीएस लक्ष्मण, राहुल द्रविड़, वीरेंद्र सहवाग जैसे बड़े नामों को लिया है और बाद में संन्यास लेने वाले कई अन्य लोगों को मौका नहीं मिला. उन्होंने 10-15 साल भारतीय क्रिकेट को दिए, लेकिन अगर ऐसा ना हो सका तो भी उनकी शान कम नहीं होगी.’

इसे भी पढ़ें :कोरोना पर केंद्रीय स्वास्थ्यमंत्री ने किया सतर्क, राज्य के सभी स्वास्थ्य मंत्री के साथ की बैठक

Related Articles

Back to top button