Court NewsLead NewsNational

Gyanvapi Masjid Case: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 6 जुलाई तक स्थगित की सुनवाई, ज्ञानवापी के बाहर नमाजियों की भारी भीड़

Varanasi : इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने वाराणसी के काशी-विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद मामले में सुनवाई 6 जुलाई तक स्थगित कर दी है. जानकारी के अनुसार 31 साल पहले 1991 के मामले में सुनवाई टली है. अब 6 जुलाई को सुबह 10 बजे सुनवाई होगी. इससे पहले गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मामले में वाराणसी कोर्ट में मामले की सुनवाई पर रोक लगाई थी. मामले में आज 3 बजे सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है.

इसे भी पढ़ें:राबड़ी आवास पर सीबीआइ की टीम ने बंद कमरे को खोलने के लिए ताला तोड़नेवाले शख्स को बुलाया

कोर्ट कमिश्नर ने सुप्रीम कोर्ट में 12 पन्नों की रिपोर्ट सौंपी

Catalyst IAS
SIP abacus

वहीं कोर्ट कमिश्नर ने सुप्रीम कोर्ट में 12 पन्नों की रिपोर्ट अदालत को सौंप दी है. वहीं भारी भीड़ के कारण ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) के गेट बंद कर दिए गए हैं. नमाज के लिए लोग भारी संख्या में जुटे थे. वहीं जुमे की नमाज की वजह से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे.

MDLM
Sanjeevani

मस्जिद कमेटी ने कहा है कि पूरी मस्जिद भर चुकी है. मस्जिद कमेटी ने आस-पास की मस्जिदों में नमाज पढ़ने की अपील की है. ज्ञानवापी में मौलाना की अपील पर नमाजी भड़क गए. विशेष अधिवक्ता आयुक्त (स्पेशल एडवोकेट कमिश्नर) ने गुरुवार को बताया था कि ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में किये गए आयोग के सर्वेक्षण कार्य की रिपोर्ट अदालत को सौंप दी गई है.

इसे भी पढ़ें:विद्युत आपूर्ति के लिए आत्मनिर्भर होगी रांची स्मार्ट सिटी, जीआइएस के बाद अब एचईसी में पावर सबस्टेशन भी तैयार

ज्ञानवापी मस्जिद के बाहर भारी भीड़

सर्वे रिपोर्ट कोर्ट में पेश

हिंदू पक्ष के अधिवक्ता मदन मोहन यादव ने बताया कि जिले की एक अदालत द्वारा नियुक्त विशेष अधिवक्ता आयुक्त विशाल सिंह ने 14, 15 और 16 मई को किए गए सर्वेक्षण कार्य की रिपोर्ट जिला सिविल न्यायाधीश रवि कुमार दिवाकर की अदालत में पेश कर दी गई है.

इसे भी पढ़ें:राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से सीबीआइ ने दिल्ली में 6 घंटे की पूछताछ

कोर्ट करेगा आगे की कार्रवाई

यादव ने बताया कि अदालत द्वारा हटाए गए अधिवक्ता आयुक्त अजय मिश्र ने छह और सात मई को की गई ज्ञानवापी परिसर की सर्वेक्षण रिपोर्ट बुधवार देर शाम अदालत को सौंप दी थी.

विशेष अधिवक्ता आयुक्त विशाल सिंह ने रिपोर्ट पेश करने के बाद कहा कि मैंने 14, 15 और 16 मई की रिपोर्ट अदालत में प्रस्तुत कर दी है. रिपोर्ट में क्या है यह मुझे बताने का अधिकार नहीं है. अब रिपोर्ट पर आगे की कार्यवाही अदालत करेगी.

इसे भी पढ़ें:पलामू: चुनाव प्रचार में नहीं जाने पर प्रत्याशी ने वोटर को पीटा, सिर में लगे छह टांके

Related Articles

Back to top button