JharkhandLead NewsRanchi

Jharkhand में अब गुरू जी को  नहीं ढोनी पड़ेंगी चावल की बोरियां

Ranchi: सरकारी स्कूलों के मास्टर साहब को मध्याह्न भोजन के लिये अब चावल की बोरियां नहीं ढोनी पड़ेंगी. जनवरी, 2023 से विद्यालयों में मध्याह्न भोजन योजना का चावल की डोर स्टेप-डिलिवरी शुरू हो जायेगी. इसे लेकर शिक्षा सचिव के आदेश पर कवायद शुरू हो गई है. इस बाबत रांची जिला शिक्षा अधीक्षक ने जिले के सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी, अवर विद्यालय निरीक्षक, रांची-1 और 2 को पत्र लिखा है.

 

प्रखंड से विद्यालय तक चावल पहुंचाना है

रांची जिला शिक्षा अधीक्षक ने लिखा है कि विभागीय सचिव से प्राप्त निर्देश के अनुसार प्रखंड से विद्यालय तक चावल पहुंचाना है. इस संबंध में कई निर्देश दिये गये हैं. वित्तीय वर्ष 2022-23 में जनवरी, 2023 से सभी विद्यालयों तक चावल पहुंचाने की व्यवस्था उक्त निर्देश के आलोक में करनी है.

स्वतंत्र एजेंसी के जरिये होगा काम

इसे उपायुक्त सह अध्यक्ष जिला स्तरीय स्टेयरिंग सह मॉनिटरिंग कमेटी के आदेश से डोर स्टेप-डिलिवरी के माध्यम से कराना है. इसके लिए स्वतंत्र एजेंसी का चयन करना है. एजेंसी के चयन के लिए विज्ञापन 5 दिसंबर, .2022 तक प्रकाशित करना है. इसे लेकर प्रखंड के सभी विद्यालयों के बारे में कई जानकारी मांगी गई है. इसमें सीआरसी का नाम, नामांकित छात्र संख्याम, प्रखंड से विद्यालय की सड़क मार्ग से दूरी (KM) में मांगी गई है.

Related Articles

Back to top button