JamshedpurJharkhand

Jamshedpur : गम्हरिया गुरुद्वारा में गुरमत संगीत एकेडमी शुरू, मनमोहन सिंह शास्त्रीय संगीत और गुरदीप सिंह देंगे गुरुमुखी ज्ञान

Jamshedpur: गम्हरिया गुरुद्वारा में गुरमत संगीत एकेडमी की शुरुआत रविवार को कर दी गई और इसका पारंपरिक रूप से उद्घाटन गुरमत मर्यादा के अनुसार सरबत का भला अरदास के साथ हुआ. टी सीरीज एवं अन्य कई कैसेट कंपनियों में सिख गुरमत एल्बम से प्रसिद्ध संगीतज्ञ रागी भाई मनमोहन सिंह अपनी सेवाएं देंगे वही ज्ञानी गुरदीप सिंह नई पीढ़ी को गुरमुखी लिखने पढ़ने का ज्ञान देंगे.
उद्घाटन के मौके पर विशेष रुप से झारखंड गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान सरदार शैलेंद्र सिंह ने कहा कि सिख धर्म की विरासत, परंपरा और इतिहास को समझने के लिए गुरमुखी का ज्ञान जरूरी है. श्री गुरु ग्रंथ साहिब पूरी तरह से राग पर आधारित है. 5894 शब्द पूरी तरह से काव्य पर आधारित है और बिना राग के आध्यात्मिकता की ऊंचाई को पाया नहीं जा सकता. वही इस मौके पर साकची गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान सरदार हरविंदर सिंह मंटू एवं मानगो गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान भगवान सिंह ने कहा कि संगत की परवानगी एवं कमेटी को विश्वास में लेकर वह भी इसकी इकाइयों का संचालन अपने-अपने गुरुद्वारों में करवाएंगे. वही दोनों ने अपनी तरफ से अकादमी के दो- दो प्रतिभावान विद्यार्थियों को पूर्ण छात्रवृत्ति देने की भी घोषणा की.

गुरदीप सिंह पप्पू देंगे दो विद्यार्थ‍ियों को स्‍कॉलरशि‍प
मौके पर झारखंड गुरुद्वारा के प्रधान सरदार शैलेंद्र सिंह, मानगो के प्रधान भगवान सिंह, साकची के प्रधान हरविंदर सिंह मंटू एवं ज्ञानी मनमोहन सिंह को शॉल और स्वरूपा देकर सम्मानित किया गया. मौके पर झारखंड सिख विकास मंच के अध्यक्ष एवं ट्रांसपोर्ट व्यवसायी गुरदीप सिंह पप्पू ने भी कहा कि पंथ हित में सराहनीय काम हो रहा है और वह भी अपनी ओर से दो विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति प्रदान करेंगे. समारोह की अध्यक्षता गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान डॉ अमरजीत सिंह, संचालन ज्ञानी गुरदीप सिंह घुम्मन और धन्यवाद ज्ञापन महासचिव जस्सा सिंह द्वारा किया गया. इस विशेष मौके पर सतवंत सिंह, निर्मल सिंह, नौजवान सभा के प्रधान जगजीत सिंह कलसी एवं अन्य पदाधिकारी, स्त्री सत्संग सभा की प्रधान राजेंद्र कौर एवं अन्य पदाधिकारी एवं कई गणमान्य लोग उपस्थित थे.

ये भी पढ़ें-कोल विद्रोह के महानायक बुधु भगत का आज है शहादत दिवस, अंतिम सांस तक अंग्रेजों से लड़ी जंग,पढ़िए वीर योद्धा की कहानी

Catalyst IAS
ram janam hospital

Related Articles

Back to top button