न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गुडगांव गोलीबारी: न्यायाधीश की जख्मी पत्नी की मौत, पुत्र ब्रेन डेड

शनिवार को निजी गार्ड ने मारी थी गोली

108

Gurugram: गुड़गांव के भीड़-भाड़ वाले एक बाजार में निजी सुरक्षा गार्ड के कथित रूप से गोली मारने के बाद घायल हुई एक न्यायाधीश की पत्नी की मौत हो गई है. जबकि उनके 18 वर्षीय पुत्र को ब्रेन डेड घोषित कर दिया गया है. अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश कृष्ण कांत की पत्नी रितु (45) और पुत्र ध्रुव (18) शनिवार को आर्केडिया मार्केट में खरीदारी के लिए गये थे. उसी दौरान उनके निजी सुरक्षा गार्ड महिपाल ने उन्हें गोली मार दी. दोनों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

इसे भी पढ़ेंःसरकार करायेगी प्रणामी इस्टेट्स प्राइवेट लिमिटेड के बहुमंजिली इमारतों की जांच

एक्सेस ब्लड लॉस के कारण हुई मौत

गुड़गांव सिविल अस्पताल के क्षेत्रीय चिकित्सा अधिकारी पवन चौधरी ने रितु की मौत होने की पुष्टि की है और कहा कि उनके शव का पोस्टमार्टम कराया गया है. चौधरी ने बताया कि रितु की मौत की वजह अत्यंत रक्तस्राव थी. तीन विशेषज्ञ चिकित्सकों के एक पैनल ने छाती के दाहिने ओर और बीच में गोली के दो घाव पाये.

चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि ध्रुव को सिर में गोली मारी गई थी, वह ब्रेन डेड हो गया है. उसे लाइफ सपोर्टिंग सिस्टम पर रखा गया है. यदि वह बच जाता है, तो वह चमत्कार होगा.

इसे भी पढ़ेंःराज्य में आईएएस अफसरों का टोटा, पहले से 43 कम, 2019 तक रिटायर हो जायेंगे 27 और अफसर

चार दिनों की पुलिस हिरासत में आरोपी गार्ड

इस बीच, महिपाल को दोपहर एक बजे गुड़गांव की एक अदालत में लाया गया, जिसने उसे चार दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया. गुड़गांव पुलिस ने यह पता लगाने के लिए कि उसने रितु और ध्रुव को गोली क्यों मारी, उसकी एक सप्ताह की हिरासत मांगी थी. पुलिस ने मामले की सभी कोणों से जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया है.

जांच टीम से जुड़े एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि महिपाल लगातार अपने बयान बदल रहा है और सवाल पूछे जाने पर वह गुस्सा हो जाता है. वह अपनी निजी, पारिवारिक समस्या को लेकर अवसाद में है. पुलिस ने बताया कि गोलीबारी की यह घटना शनिवार को अपराह्न करीब साढ़े तीन बजे हुई.

इसे भी पढ़ें – IAS और IFS से भी नहीं संभला जेपीएससी, दो अध्यक्ष भी नहीं करा सके प्रक्रिया पूरी, लोकसभा चुनाव के बाद ही परीक्षा की संभावना

अवसाद में है गार्ड- पुलिस

आरोपी से प्रारंभिक पूछताछ के बाद पुलिस अधिकारियों ने बताया कि वह हरियाणा पुलिस का एक हेड कांस्टेबल है और पिछले दो वर्षों से न्यायाधीश के निजी सुरक्षा गार्ड के रूप में तैनात था. अधिकारियों ने बताया कि वह पिछले कुछ दिनों से घर जाने के लिए छुट्टी मांग रहा था जो उसे नहीं दी जा रही थी. इससे शायद वह अवसाद में चला गया. जांच अधिकारियों में से एक ने बताया कि न्यायाधीश भी अक्सर उसे डांटते थे. अधिकारी ने बताया कि शनिवार को भी न्यायाधीश की पत्नी ने बाजार जाते समय कार में उसे डांटा. न्यायाधीश के खिलाफ उसमें काफी असंतोष था. एएसजे कृष्ण कांत ने एक बयान में बताया कि महिपाल ने घटना के बारे में उन्हें फोन पर जानकारी दी थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: