JharkhandKhunti

एक हाथ में बंदूक दूसरे में कलम: देश के सबसे ज्यादा नक्सल प्रभावित जिले में छात्रों को पढ़ा रहे हैं एसएसबी जवान

khunti: कोरोना महामारी की वजह से स्कूलों के बंद रहने के कारण छात्रों की पढ़ाई बाधित हो रही है. खासकर नक्सल प्रभावित इलाकों में विद्यार्थियों की पढ़ाई को ज्यादा प्रभाव पड़ा है. नक्सल क्षेत्रों में रहने वाले छात्र के घर पर इंटरनेट की अनुपलब्धता और एंड्राइड फोन नही होने के कारण वे ऑनलाइन शिक्षा से वंचित हो रहे हैं.

वहीं सीआरपीएफ और एसएसबी की कई टीमें नक्सल प्रभावित इलाक़े में तैनात है. इसके साथ ही नक्सलियों के खिलाफ अभियान चला कर नक्सल मुक्त राज्य बनाने में जवान दिन-रात लगे हैं. देश के सबसे नक्सल प्रभावित जिला खूंटी में तैनात एसएसबी के जवान बिरसा अनुसूचित जनजाति बालक आवासीय विद्यालय में छात्रों को मैट्रिक की तैयारी करा रहे हैं. इन स्कूली बच्चे को एसएसबी के जवान बकायदा क्लास में बैठाकर पढ़ा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें-अब विदेशी पर्यटकों को भी पसंद आ रहा है झारखंड,2019 में आये 1,76,043 विदेशी पर्यटक

बिरसा अनुसूचित जनजाति बालक आवासीय विद्यालय के प्रधानाचार्य अपने छात्रों के भविष्य को लेकर चिंतित और गंभीर थे. इन छात्रों की आने वाली मैट्रिक के परीक्षा की तैयारी कैसे कराई जाए इससे वे परेशान थे. इसे देखते हुए स्कूल के प्रधानाचार्य ने एसएसबी से सहयोग मांगा था. इसके बाद स्कूल के छात्रों को पढ़ाने के लिए जवान आगे बढ़े. अब अनुरोध के बाद एसएसबी के जवान नक्सल प्रभावित इलाकों में छात्रों को पढ़ा रहे हैं.

वहीं छात्रों का कहना है कि उनकी चिंता भी खत्म हो गयी है. बच्चों का कहना था कि मैट्रिक की परीक्षा की तैयारी कैसे होगी इसकी समस्या हल हो गयी है,अब वे काफी खुश हैं.

इसे भी पढ़ें-खत्म हुआ इंतजार, पीएम मोदी ने शुरू किया राष्ट्रव्यापी कोविड टीकाकरण अभियान

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: