न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएलएफआइ का सबजोनल कमांडर याकूब समेत चार उग्रवादी गिरफ्तार

दो लाख का इनामी उग्रवादी है याकूब केरकेट्टा

31

Gumla/ Ranchi : गुमला पुलिस ने कार्रवाई करते हुए पीएलएफआइ का सबजोनल कमांडर और दो लाख का इनामी उग्रवादी याकूब केरकेट्टा समेत चार उग्रवादियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने गिरफ्तार उग्रवादियों के पास से 3 पिस्तौल, 32 गोली, एक मोटरसाइकिल, 13 मोबाइल और सिम बरामद किया है. गिरफ्तार पीएलएफआइ उग्रवादी हत्या, रंगदारी के दर्जनों मामलो में संलिप्त हैं. पुलिस ने सभी उग्रवादियों को बसिया थाना क्षेत्र के द्वारसेनी जंगल से गिरफ्तार किया है.

गुप्त सूचना के आधार पर किया गया गिरफ्तार

एसपी ने बताया कि पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि बसिया थाना क्षेत्र के द्वारसेनी जंगल में कुछ पीएलएफआइ उग्रवादी जमा हुए हैं. मिली सूचना के आधार पर गुमला पुलिस ने कार्रवाई करते हुए  पीएलएफआइ के जोनल कमांडर याकूब केरकेट्टा समेत चार पीएलएफआइ उग्रवादियों को गिरफ्तार किया.

कौन है याकूब केरकेट्टा

बता दें कि दो लाख रुपए का इनामी याकूब केरकेट्टा पीएलएफआइ का कुख्यात उग्रवादी है. पीएलएफआइ संगठन में वह जोनल कमांडर है. उसके ऊपर कई हत्या और घटना का अंजाम देने का आरोप है. याकूब केरकेट्टा खूंटी, गुमला और सिमडेगा के क्षेत्र में सक्रिय रूप से काम कर रहा था. याकूब के उपर कामडारा थाना में 9 मामले दर्ज हैं.

silk_park

मुर्गी कोना नरसंहार में था शामिल

कामडरा के मुर्गी कोना नरसंहार में वह शामिल था. उस समय उग्रवादियों ने शांति सेना के सदस्यों समेत 7 मजदूरों को मौत के घाट उतार दिया था. इसके अलावा याकूब कई दोहरे हत्याकांड में भी शामिल रहा है. बताया जाता है कि अपराध की दुनिया में आते ही याकूब पीएलएफआइ से जुड़ कर ताबड़तोड़ घटनाओं को अंजाम देने में जुट गया था. इसके बाद पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार कोशिश कर रही थी.

 एरिया कमांडर से बना था सबजोनल कमांडर

पीएलएफआइ द्वारा उसके कार्यों को देख एरिया कमांडर से सबजोनल कमांडर बना दिया गया था. सबजोनल कमांडर बनने के बाद वह अपना कार्य क्षेत्र खूंटी को बना कर रखा था. बुधवार को पुलिस को यह गुप्त सूचना मिली थी कि याकूब अपने दस्ते के तीन सदस्यों के साथ गुमला पहुंचा है. अपनी एक महिला मित्र से मिलने वाला है. इसी सूचना पर गुमला पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई कर उसे गिरफ्तार कर लिया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: