National

गुजरात : विज्ञापन के विरोध में तनिष्क स्टोर पर गुस्साई भीड़ का हमला, मैनेजर ने माफीनामा लिखा

हाल ही में तनिष्क कंपनी ने नये कलेक्शन एकत्वम को लेकर एक ऐड रिलीज किया था, जिसमें दो परिवारों के बीच अंतरधार्मिक विवाह दिखाया गया था. ट्विटर पर इस विज्ञापन को लेकर #BoycottTanishq ट्रेंड शुरू हो गया था.

विज्ञापन

 Ahmedabad :  खबर है कि गुजरात के गांधीधाम शहर में एक विज्ञापन के विरोध में तनिष्क कंपनी के एक स्टोर पर गुस्साई भीड़ ने हमला कर दिया और स्टोर मैनेजर के जबरन माफीनामा लिखवाया. सूत्रों के अनुसार तनिष्क के इस स्टोर को विज्ञापन विवाद के बाद से लगातार धमकियां मिल रही थी.

एहतियात के तौर पर इलाके में सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया गया है. ज्वेलर कंपनी तनिष्क के विज्ञापन को लेकर विवाद लगातार बढ़ते जा रहा है . सोशल मीडिया पर तनिष्क बायकॉट के ट्रेंड से शुरू होकर अब यह मामला भीड़ के गुस्से में बदल गया है .

इसे भी पढ़ें : GST compensation के लिए कर्ज लेने पर 20 राज्य सहमत, केंद्र ने दी 68 हजार करोड़  जुटाने को मंजूरी

advt

विज्ञापन को लेकर लोगों की भावनाएं आहत हुई है

स्थानीय पुलिस अधिकारी के अनुसार कुछ लोगों ने स्टोर के मैनेजर को जानकारी दी थी कि उनके विज्ञापन को लेकर लोगों की भावनाएं आहत हुई है. जान लें कि हाल ही में तनिष्क कंपनी ने नये कलेक्शन एकत्वम को लेकर एक ऐड रिलीज किया था, जिसमें दो परिवारों के बीच अंतरधार्मिक विवाह दिखाया गया था.

ट्विटर पर इस विज्ञापन को लेकर #BoycottTanishq ट्रेंड शुरू हो गया था. सोशल मीडिया पर कुछ लोग इसे लव जिहाद को प्रोत्साहित करने की साजिश बता क इसे हटाने की भी मांग कर रहे थे.

पुलिस अधीक्षक ने तोड़फोड़ की घटना से इनकार किया

पूर्वी कच्छ के पुलिस अधीक्षक मयूर पाटिल के अनुसार घटना 12 अक्टूबर की है. इस दिन गांधीगाम में तनिष्ख के शोरूम में दो लोग आये. ऑनर तथा कर्मचारियों से गुजराती में माफी मांगने को कहा.  ऐसा ही किया गया. शोरूम के दरवाजे पर गुजराती भाषा में माफीनामा लिखकर चिपका दिया. इस माफीनामें में गुजराती भाषा में लिखा था, हम तनिष्क के शर्मनाक विज्ञापन पर कच्छ के हिंदू समुदाय से माफी मांगते हैं.

पुलिस अधीक्षक मयूर पाटिल के मुताबिक ऑनर ने माफी मांग ली थी लेकिन उन्हें कच्छ से लगातार धमकी भरे फोन आ रहे थे. स्टोर पर हमले की खबरें झूठी हैं. स्थानीय लोगों ने भी तोड़फोड़ या मारपीट की किसी भी घटना से साफ इंकार किया है.

adv

तनिष्क ने ट्रोल होने के बाद अपना ऐड वापस ले लिया

हालांकि विज्ञापन को लेकर तनिष्क ने ट्रोल होने के बाद अपना ऐड वापस ले लिया, साथ ही कंपनी ने सफाई दी कि एकत्वम अभियान का मकसद, इस चुनौतीपूर्ण समय के दौरान एक साथ आकर जश्न मनाने का है, लेकिन इस विज्ञापन फिल्म पर बहुत उकसाने वाली प्रतिक्रियाएं मिली है, जो फिल्म के उद्देश्य से बिल्कुल विपरीत है.  हम बेवजह भावनाओं के इस तरह उत्तेजित होने से दुखी हैं और स्टोरकर्मियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस विज्ञापन फिल्म को वापस लेते हैं.

इसे भी पढ़ें :  ऋचा चड्ढा के मानिहानि नोटिस पर पायल घोष ने कोर्ट में मांगी माफी, वापस लिया बयान

विज्ञापन में एक गर्भवती महिला की गोदभराई दिखाई गयी है

विज्ञापन में एक गर्भवती महिला की गोदभराई दिखाई गयी है, जिसने साड़ी पहन रखी है और उसकी सास उसे गोद भराई की रस्म में लेकर जाती है वीडियो खत्म होने के बाद महिला अपनी सास, जिन्होंने सलवार सूट पहन रखा है और सिर पर दुपट्टा डाल रखा है, उससे पूछती है- मां, लेकिन यह रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं न, इसपर सास का जवाब आता है- लेकिन बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न.

लेखक चेतन भगत ने तनिष्क को सपोर्ट किया

इस विज्ञापन पर सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने कहा कि यह ऐड लव जिहाद और फर्जी धर्मनिरपेक्षता को बढ़ावा दे रहा है. फिल्म अभिनेत्री कंगना रनोट ने भी इस विज्ञापन का विरोध किया और इसे हिंदू धर्म का अपमान बताया था. वहीं लेखक चेतन भगत ने तनिष्क को सपोर्ट किया है और उन्हें मजबूत रहने की सलाह दी है.

ट्वीट में चेतन ने लिखा, ‘प्रिय, तनिष्क, आप पर हमला करने वाले ज्यादातर लोग आपको अफोर्ड नहीं कर सकते. जल्द ही उनके पास नौकरियां नहीं होंगी, इसलिए यकीनन भविष्य में वो तनिष्क से कुछ भी खरीदने के काबिल नहीं होंगे . इसलिए उन लोगों की फिक्र न करें.

इसे भी पढ़ें :  असम की BJP सरकार बंद करने जा रही सरकारी खर्चे पर चल रहे राज्य के सभी मदरसे, नवंबर में जारी होगी अधिसूचना

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button