BusinessNational

दिसंबर में पहली बार GST कलेक्शन रिकॉर्ड 1.15 लाख करोड़ के पार

  • झारखंड में दिसंबर 2020 में पिछले साल के इसी माह की तुलना में 11 प्रतिशत अधिक जीएसटी राजस्व की वसूली 

Uday Chandra

New Delhi: लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्था में अब सुधार के संकेत हैं. जीएसटी लागू होने के बाद से दिसंबर 2020 के दौरान जीएसटी राजस्व सबसे अधिक रहा है और यह पहली बार है जब यह 1.15 लाख करोड़ रुपये के आंकड़े के पार जा पहुंचा है. वित्त मंत्रालय के मुताबिक जीएसटी संग्रह दिसंबर में 1,15,174 करोड़ रुपये रहा है. यह लगातार तीसरा महीना है, जब जीएसटी संग्रह एक लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा है.

झारखंड में भी दिसंबर 2020 में पिछले साल के इसी माह की तुलना में 11 प्रतिशत अधिक जीएसटी राजस्व की वसूली हुई है. झारखंड में दिसंबर 2019 में यह 1,943 करोड़ रुपये थी जो बीते साल दिसंबर 2020 में 11 प्रतिशत बढ़कर 2,150 करोड़ पर जा पहुंचा है.

दिसंबर 2020 में 1,15,174 करोड़ रुपए के सकल जीएसटी राजस्व की वसूली हुई, जिसमें सीजीएसटी 21,365 करोड़ रुपए, एसजीएसटी 27,804 करोड़ रुपए, आइजीएसटी 57,426 करोड़ रुपए (वस्तुओं के आयात पर वसूली गई 27,050 करोड़ रुपए की राशि सहित), 8,579 करोड़ रुपए की उपकर राशि (वस्तुओं के आयात पर वसूल की गई 971 करोड़ रुपए की राशि सहित) शामिल है. 31 दिसंबर 2020 तक नवम्बर माह के लिए कुल 87 लाख जीएसटीआर-3बी रिटर्न दाखिल की गई.

सरकार ने नियमित निपटान के रूप में सीजीएसटी से 23,276 करोड़, एसजीएसटी से 17,681 करोड़ रुपए का निपटान किया. दिसंबर 2020 में नियमित निपटान के बाद केंद्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा अर्जित कुल राजस्व इस प्रकार है- सीजीएसटी के लिए 44,141 करोड़ रुपए और एसजीएसटी के लिए 45,485 करोड़ रुपए.

इसे भी पढ़ें – गढ़वा: महेंद्र चौधरी हत्याकांड, पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर की थी हत्या, दोनों गिरफ्तार

जीएसटी राजस्व में वसूली की वर्तमान प्रवृत्ति के अनुरूप दिसंबर 2020 में पिछले साल के इसी माह की तुलना में जीएसटी राजस्व 12 प्रतिशत अधिक रहा. पिछले साल दिसंबर माह की तुलना में इस माह के दौरान वस्तुओं के आयात से प्राप्त राजस्व 27 प्रतिशत अधिक रहा तथा घरेलू लेन-देन (सेवाओं के आयात सहित) से प्राप्त राजस्व आठ प्रतिशत ज्यादा रहा.

जीएसटी लागू होने के बाद से लेकर अब तक दिसंबर 2020 के दौरान जीएसटी राजस्व सर्वाधिक रहा और पहली बार इसने 1.15 लाख करोड़ के स्तर को पार किया. अब तक सबसे अधिक जीएसटी वसूली अप्रैल 2019 में 1,13,866 करोड़ रुपए की रही थी. अप्रैल में सामान्य रूप से अधिक राजस्व प्राप्त होता है क्योंकि वह अप्रैल की रिटर्न से संबंधित होता है और मार्च वित्तीय वर्ष का अंतिम मास होता है.

दिसंबर 2020 में पिछले मास के 104.963 करोड़ रुपए के राजस्व की तुलना में अधिक राजस्व प्राप्त हुआ है. पिछले 21 महीनों में मासिक राजस्व में यह सबसे अधिक बढ़ोत्तरी है. ऐसा महामारी के बाद त्वरित आर्थिक रिकवरी और जीएसटी की चोरी करने वालों और नकली बिल बनाने वालों के खिलाफ राष्ट्रव्यापी अभियान के साथ-साथ अभी हाल में शुरू किए गए व्यवस्थागत परिवर्तनों के कारण संभव हुआ है, जिसके कारण अनुपालन में सुधार को बढ़ावा मिला है.

अभी तक जीएसटी से 1.1 लाख करोड़ से अधिक राजस्व प्राप्त हुआ है जो जीएसटी की शुरुआत से तीन गुणा अधिक है. चालू वित्त वर्ष में यह लगातार तीसरा महीना है जब अर्थव्यवस्था में महामारी के बाद रिकवरी के संकेत मिले हैं और जीएसटी राजस्व एक लाख करोड़ रुपए से अधिक हुआ है. पिछली तिमाही में जीएसटी राजस्व में औसत बढ़ोत्तरी 7.3 प्रतिशत रही है जबकि दूसरी तिमाही के दौरान यह -8.2 प्रतिशत तथा पहली तिमाही में -41.0 प्रतिशत रही.

इसे भी पढ़ें – सुनीत शर्मा ने रेलवे बोर्ड के अध्यरक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में पदभार संभाला

दिसंबर 2020 के दौरान जीएसटी राजस्‍व में राज्‍यवार बढ़ोत्‍तरी [1]

 

 राज्‍यदिसंबर-19दिसंबर-20बढोत्‍तरी
1जम्‍मू और कश्‍मीर409318-22%
2हिमालच प्रदेश699670-4%
3पंजाब1,2901,3535%
4चंडीगढ168158-6%
5उत्‍तराखंड1,2131,2463%
6हरियाणा5,3655,7477%
7दिल्‍ली3,6983,451-7%
8राजस्‍थान2,7133,13516%
9उत्‍तर प्रदेश5,4895,9378%
10बिहार1,0161,0675%
11सिक्किम2142255%
12अरूणाचल प्रदेश5846-22%
13नगालैंड313823%
14मणिपुर4441-8%
15मिजोरम212521%
16त्रिपुरा597425%
17मेघालय123106-14%
18असम991984-1%
19पश्चिम बंगाल3,7484,11410%
20झारखंड1,9432,15011%
21ओडिशा2,3832,86020%
22छत्‍तीसगढ़2,1362,34910%
23मध्‍यप्रदेश2,4342,6157%
24गुजरात6,6217,46913%
25दमन और दीव944-96%
26दादरा और नगर हवेली15425968%
27महाराष्‍ट्र16,53017,6997%
29कर्नाटक6,8867,4598%
30गोवा363342-6%
31लक्षद्वीप11-32%
32केरल1,6511,7768%
33तमिलनाडु6,4226,9058%
34पुद्दचेरी165159-4%
35अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह3022-26%
36तेलंगाना3,4203,5434%
37आंध्र प्रदेश2,2652,58114%
38लद्दाख08 
97अन्‍य केन्‍द्रशासित प्रदेश11888-25%
99केंद्र अधिकार क्षेत्र7512768%
कुल योग81,04287,153

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: