न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गंदे और जर्जर बैरक में रहने को मजबूर हैं GRP के जवान, पड़ते रहते हैं बीमार

652

Anil Pandey
Dhanbad : जीआरपी के जवान गंदे और जर्जर बैरक में रहने को मजबूर हैं. बैरक की हालत इतनी बदतर हो चुकी है कि यहां कभी भी कोई हादसा हो सकता है. गंदगी के कारण अक्सर जीआरपी के जवान बीमार पड़ते रहते हैं.

हाल ही में गंदगी के कारण दो जवान फूड प्वाइजनिंग के शिकार हो गये थे. उन्हें गंभीर हालत में पीएमसीएच में भर्ती कराना पड़ा था. इससे पहले भी एक जवान की मौत फूड प्वाइजनिंग के कारण हो चुकी है. इसके बावजूद न तो रेल प्रशासन की ओर से रेल बैरक की गंदगी दूर करने का प्रयास किया जा रहा है और न ही जर्जर बैरक को दुरुस्त करने की दिशा में कोई पहल की जा रही है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें- #JPSC की कार्यशैली पर लगातार प्रतिक्रिया दे रहे हैं छात्र, पढ़ें-क्या कहा छात्रों ने…. (छात्रों की प्रतिक्रिया का अपडेट हर घंटे)

छत से चूता है पानी, टूटकर गिरता रहता है प्लास्टर

धनबाद जीआरपी के चार बैरक हैं जिसमें लगभग 200 जवान रहते हैं. इस बैरक की स्थिति पूरी तरह जर्जर हो गयी है. छत, खिड़की, दरवाजे सभी जर्जर स्थिति में हैं. बारिश होने पर बैरक में छत से पानी भी टपकता है.

इसके बावजूद जवानों को यहीं रहना पड़ता है. यही हाल किचन का भी है. दीवार से लेकर छत तक पूरी तरह जर्जर है. खाना बनाने के दौरान छत का प्लास्टर टूट-टूट कर गिरता रहता है. इससे लोगों को चोट भी लगती रहती है.

इसे भी पढ़ें- #CCL CMD गोपाल सिंह का Political अवतार!

चार शौचालय के भरोसे दो सौ जवान

Related Posts

#Bermo: उद्घाटन के एक माह बाद भी लोगों के लिए नहीं खोला जा सका फ्लाइओवर और जुबली पार्क

144 करोड़ की लागत से बना है, डिप्टी चीफ ने कहा-अगले सप्ताह चालू कर दिया जायेगा

वहीं शौचालय की स्थिति इतनी खराब है कि मल बाहर निकलता रहता है. जिसकी गंध से बैरक में रहना मुश्किल हो जाता है. शौचालय के चारों ओर गंदगी का अंबार लगा हुआ रहता है.

जिस पर मक्खी और मच्छर मंडराते रहते हैं. यहां पर दौ सौ जीआरपी जवानों के लिए महज चार शौचालय हैं. जो शौचालय हैं, उसकी स्थिति भी काफी बदतर हो चुकी है.

डीआरएम को कराया अवगत लेकिन नहीं हुई कार्रवाई : आरके मिश्रा

वहीं पुलिस मेंस एसोसिएशन के अध्यक्ष आरके मिश्रा के कहा कि हमलोग काफी दयनीय स्थिति में रहते हैं. यहां न रहने की अच्छी व्यवस्था है और न ही शौचालय और किचन की.

शौचालय के बगल में ही किचन बना दिया गया है. लोग दुर्गंध के बीच खाना बनाने को मजबूर हैं. हमने कई बार डीआरएम को पत्र लिखकर इस मामले से अवगत कराया है लेकिन आज तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई.

इसे भी पढ़ें- #AppleEvent ने लांच किया #iPhone11, कीमत में कटौती, 64,990 रुपये से शुरुआत 

राज्य सरकार और रेलवे को मिलकर करना है काम : डीआरएम

इस संबंध में धनबाद रेल मंडल के डीआरएम एके मिश्रा ने कहा कि मामले की जानकारी मिली है. बैरक में काम के लिए ऑर्डर दे दिया गया है. इसमें राज्य सरकार और रेलवे दोनों को मिलकर काम करना है लेकिन राज्य सरकार इस मामले में कुछ नहीं कर रही है. रेलवे से जितना हो पायेगा, हम करेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like