न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हरियाली रांची के लिए निकाली गयी साइकिल मार्च

रांची को एक श्रेष्ठ शहर बनाने की कही गयी बात

230

Ranchi : हमें चाहिए खेल का मैदान, रांची को कंक्रीट का जंगल मत बनाओ! इस नारे के साथ रांची के नागरिकों ने आजादी की सुबह साइकिल मार्च निकाला था. मेन रोड स्थित बिग बाजार से जयपाल सिंह स्टेडियम तक इस ग्रुप साइकिल राइड में 100 से भी अधिक लोगों ने भाग लिया. इस ग्राइड को जयपाल सिंह मुंडा के पुत्र श्री जयंत जयपाल सिंह मुंडा और पुत्री श्रीमती जानकी सिंह ने संयुक्त रूप से झंडी दिखाकर रवाना किया. मौके पर साइकिल-उत्साही मित्रों की हौसला अफजाई के लिए श्री अजीत साहू, श्रीमती महुआ माझी समेत समाज के कई गणमान्य और वरिष्ठ लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- वन विभाग को नहीं मिला एके 47 और रायफल, धरा का धरा रह गया प्रस्ताव

रांची को एक श्रेष्ठ शहर बनाने की बात कही गयी

इस राइड में झारखण्ड सिविल सोसाइटी मंच की ओर से विकास सिंह, आरपी शाही, डॉ विष्णु राजगढ़िया, अंचल किंगर, राजेश दास, अतुल गेरा, खुशबू कटारुका, श्वेतांक श्रीवास्तव, अजय सिंह, नंदिता सान्याल, बालेशर सिंह शामिल हुए. सायकिल मार्च में जेसिया से कमल अग्रवाल और अजय, साइकिल दोस्त से गणेश रेड्डी, संजीव शेखर और उनके साथी, संदीप राजगढ़िया, बीरेंदर कुमार, सुशील ढांढानिया, विक्की सलूजा, डॉ राकेश अग्रवाल मुख्य थे. इस मौके पर झारखंड सिविल सोसाइटी मंच द्वारा जारी संदेश में यह कहा गया कि रांची शहर हमारा है, और हमें ही इसे भविष्य की राह दिखानी है, सिर्फ बैठकर या सरकारी तंत्र को कोसने से ज्यादा कुछ हासिल नहीं होगा. हमें रांची को एक श्रेष्ठ शहर बनाना है.

इसे भी पढ़ें- सालों से अपने ही घर में कैद भाई-बहन को पुलिस ने कराया आजाद, किरायेदार डॉक्टर पर आरोप

दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही शहर की हालत

वर्तमान में रांची शहर की हालत दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है, तालाबों-पार्कों-मैदानों-खुले क्षेत्रों में धड़ल्ले से भविष्य के पर्यावरण के नफा-नुकसान के आकलन के बिना भारी निर्माण किये जा रहे हैं, जो काफी विनाशकारी हैं. सड़कों पर गाड़ियों की भीड़ लगातार बढ़ती जा रही है. जिसकी वजह से गाड़ियां सड़कों पर रेंग रही है, और उनसे निकलता जहरीला धुआं पूरे वायुमंडल को प्रदूषित कर रहा है.

इसे भी पढ़ें- विकास के मानकों में पीछे छूट रहा सीएम का विभाग, सड़क, बिजली, खान, वन राष्ट्रीय मानक से भी पीछे

इसे भी पढ़ें- अटल बिहारी वाजपेयी की हालत बेहद नाजुक,  फुल लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर पूर्व प्रधानमंत्री

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: