Bihar

महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का पटना में निधन, लंबे समय से थे बीमार

Patna: महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का निधन हो गया. गुरुवार को पटना के पीएमसीएच अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांसें ली. वह 74 साल के थे और लंबे समय से बीमार थे. इस खबर से पूरा बिहार गमगीन है.

Jharkhand Rai

वशिष्ठ नारायण सिंह करीब 40 साल की उम्र से सिजोफ्रेनिया नाम की बीमारी से ग्रसित थे. वशिष्ठ नाराण सिंह अपने परिजनों के साथ पटना के कुल्हरिया कंपलेक्स में रहते थे.

 

इसे भी पढ़ें- ‘सुप्रीम’ फैसलों का दिन: सबरीमाला, राफेल और राहुल के मामले में SC सुनायेगा फैसला

सीएम नीतीश कुमार ने दी श्रद्धांजलि

उनकी बीमारी के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री से लेकर केंद्रीय मंत्री तक उन्हें देखने गये थे. वहीं गुरुवार को निधन के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरा शोक व्यक्त किया है.

सीएम नीतीश ने कहा कि वशिष्ठ बाबू का निधन बहुत दुखद है. उन्होंने अपने ज्ञान से पूरे बिहार का नाम रौशन किया है. मैं वशिष्ठ बाबू के जाने से मर्माहत हूं, मैं उनको श्रद्धांजलि देता हूं.

वहीं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भी शोक जताया है. उन्होंने कहा कि वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन से समाज को अपूरणीय क्षति हुई है.

इसे भी पढ़ें- बिहार: नालंदा व रोहतास जिलों में अलग-अलग हादसे में आठ की मौत, 11 घायल

आइंस्टीन के सिद्धांत को दी थी चुनौती 

आरा के बसंतपुर के रहने वाले वशिष्ठ नारायण सिंह बचपन से होनहार थे. उन्होंने मैथ से जुड़े कई फॉर्मूलों पर रिसर्च भी किया था. कभी उन्होंने आइंस्टीन के सिद्धांत को चुनौती दी थी.

कहा जाता है कि उनके सबसे अच्छे दोस्त कॉपी और पेंसिल थे. उनके लिए तीन-चार दिन में एक बार कॉपी, पेंसिल लानी पड़ती थी. वह पूरा वक्त पढ़ते हुए बीताते थे.

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: