न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

‘सरना और ईसाइयों को आपस में लड़वाकर फायदा उठाना चाहती है सरकार’

पत्थलगड़ी को गैंगरेप से जोड़ना खूंटी डीसी का षड़यंत्र- ग्लैडसन डुंगडुंग

965

Ranchi: भूमि अधिग्रहण संशोधन कानून, खूंटी में पुलिस की दमनात्मक कार्रवाई एवं राज्य के मुख्यमंत्री के द्वारा आदिवासियों में फूट डालने के मुद्दे पर सेमिनार का आयोजन किया गया. सेमिनार को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि सरकार सरना और ईसाइयों को आपस में लड़वाकर चुनावी फायदा लेना चाह रही है. ऐसे में समाज के युवाओं को मिलकर झारखंड विरोधी नीतियां बनाने वाले लोगों को 2019 के चुनाव में सबक सिखाना चाहिए.

जनता से बात करने की बजाय सरकार लाठी-गोली की भाषा बोलती है- बाबूलाल

जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने सेमिनार को संबोधित करते हुए कहा कि आंदोलन की व्यापकता सरकार को जन विरोधी कानून बनाने से रोक सकती है. अगर लोग संगठित होकर अपनी आवाज बुलंद करें, तो सरकार को पीछे हटना पड़ेगा. हम कौन सा धर्म माने, यह व्यक्ति का निजी मामला है. बाबूलाल मरांडी ने कहा कि सरकारी योजनाओं के लिए जमीन उपलब्ध कराने के नाम पर किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया जाता है, और बाद में सरकार इसे पूंजीपतियों को बेच देती है, जो गलत है. खूंटी के मामले में बोलते हुए बाबूलाल ने कहा कि प्रशासन को जनता के साथ संवाद करनी चाहिये, ना कि लाठी गोली से निर्दोष जनता पर अत्याचार करना चहिए.

इसे भी पढ़ें- खूंटी : ग्रामीणों को ईसाई धर्म छोड़ने की मिल रही धमकी, डीसी-एसपी से सुरक्षा की लगायी गुहार

मुसलमानों और ईसाइयों का दमन- दयामनी बारला

सामाजिक कार्यकर्ता दयामनी बरला ने कहा कि राज्य में सबसे पहले मुसलमानों पर गौरक्षा के नाम पर हमले हुए. उस समय ईसाई चुप रहे और आज उन्हें खुद सरकारी दमन का शिकार होना पड़ रहा है. ऐसे में जरूरत है कि हम सभी लोग मिलकर एक साथ संघर्ष के लिए आगे आाएं. झारखंड के मूल्यों की हिफाजत करें. उन्होने कहा कि सामाजिक आंदोलन के बदौलत राजनेताओं पर भी नियंत्रण करने की रणनीति बनानी होगी.

पत्थलगड़ी को बदनाम करने के लिए रचा षड़यंत्र- ग्लैडसन डुंगडुंग

सामाजिक कार्यकर्ता ग्लैडसन डुंगडुंग ने कहा कि राज्य सरकार एक धर्म विशेष के लोगों का दमन कर रही है, लेकिन राज्य की प्रमुख विपक्षी पार्टियों ने इस मुद्दे को सही रुप से नहीं उठाया. उन्होने कहा कि कॉर्पोरेट फंडिंग का कर्ज उतारने के लिए रघुवर सरकार कॉरपोरेट के अनुकूल नीतियां बना रही है. इसका उदाहरण गोड्डा में अडानी को  दी जा रही जमीन से देखा जा सकता है. ग्लैडसन डुंगडुंग ने कहा कि पीएलएफआई को झारखंड सरकार और झारखंड पुलिस ने खड़ा किया. वहीं पत्थरगड़ी को बदनाम और टारगेट करने के लिए डीसी सूरज कुमार ने षड़यंत्र रचा है. दुष्कर्म को पत्थरगड़ी से जोड़ने का काम खूंटी के डीसी कर रहे हैं. खूंटी में हो रहे दमन को लेकर सीधे तौर पर राज्य सरकार दोषी है.

इसे भी पढ़ें- पत्र फर्जी है तो लिखावट के नमूने और हस्ताक्षर की जांच हो, सबकुछ साफ हो जाएगा- बाबूलाल

भूमि अधिग्रहण संशोधन का डटकर मुकाबला करेगी जनता- रामेश्वर उरांव

लोहरदगा के पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता रामेश्वर उरांव ने कहा कि झारखंड में जो कानून बनाए जा रहे हैं, वह भय पैदा करने के लिए बनाए जा रहे हैं. भूमि अधिग्रहण संशोधन कानून इसी तरह का काला कानून है, जिसका हम लोगों को डटकर मुकाबला करना चाहिए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: