JharkhandLead NewsRanchi

राज्यपाल ने अधिकारियों से कहा- जेपीएससी, कार्मिक और उच्च-तकनीकी शिक्षा विभाग को कार्यों में लानी होगी तेजी

Ranchi : राज्यपाल सह विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति रमेश बैस ने मंगलवार को राज्य के आला अधिकारियों की क्लास लगायी. आज वे राज्य के विश्वविद्यालयों के शैक्षणिक एवं प्रशासनिक गतिविधियों की समीक्षा कर रहे थे. मौके पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने विश्वविद्यालय में पदाधिकारियों के रिक्त पदों पर अविलंब नियुक्ति का आदेश दिया है. उन्होंने कहा कि किसी भी विश्वविद्यालय में कुलसचिव, उप कुलसचिव, परीक्षा नियंत्रक, वित्त पदाधिकारी जैसे पदों का रिक्त रहना उचित नहीं है. उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में स्थायी व्यवस्था होना चाहिए ताकि वे अपने कार्य के प्रति पूर्णतः जिम्मेदार हों.

राज्यपाल की क्लास में राज्यपाल के प्रधान सचिव डॉ. नितिन कुलकर्णी, झारखंड लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष अमिताभ चौधरी, प्रधान सचिव, वित्त अजय कुमार सिंह, प्रधान सचिव, कार्मिक, वंदना डाडेल, सचिव, भवन निर्माण विभाग सुनील कुमार सहित विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति मौजूद थे.

इसे भी पढें:लालू प्रसाद की इको-इसीजी रिपोर्ट नॉर्मल, डॉक्टरों ने कुछ दवाएं लिखीं

ram janam hospital
Catalyst IAS

जेपीएससी, कार्मिक और उच्च-तकनीकी शिक्षा विभाग को कार्यों में लानी होगी तेजी

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

राज्यपाल ने कहा कि समस्याएं आज भी हैं. उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग, कार्मिक विभाग, झारखण्ड लोक सेवा आयोग को अपने कार्यों में और तेजी लानी होगी. झारखंड लोक सेवा आयोग को नियुक्ति प्रक्रिया में गति लाने की आवश्यकता है. छात्रहित में वित्तीय संसाधन (फंडिंग) भी होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि वे इन तीन महीने में विश्वविद्यालयों में हुई कार्य-प्रगति से संतुष्ट नहीं हैं. सिर्फ आश्वासन से कम नहीं चलेगा, सबको छात्रहित में हर हाल में प्रतिबद्धता से कार्य करना होगा.

उन्होंने कहा कि आज जो भी बातें हुईं, मुद्दे उठे, समस्याएं बतायी गयीं और आप लोगों ने सुनीं, उन पर गंभीरता से कार्य करें, सिर्फ आश्वासन देने से काम नहीं चलेगा. उन्होंने कहा कि मुझे परिणाम चाहिए.

इसे भी पढें:भाषा के बहाने झारखंड सरकार कर रही अल्पसंख्यक तुष्टिकरण : दीपक प्रकाश

समय पर लें परीक्षा और परिणाम करें जारी

चांसलर पॉर्टल की समीक्षा करते हुए कहा कि महाविद्यालय इसमें सहयोग कर इसे प्रभावी बनायें. उन्होंने कहा कि अगले सत्र के लिए शैक्षणिक सत्र का निर्माण शीघ्र ही कर लें. उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों में समय पर परीक्षा का संचालन हो एवं परीक्षा परिणाम जारी हो ताकि शैक्षणिक सत्र किसी भी प्रतियोगिता परीक्षा में सम्मिलित होने में बाधा न बने.

उन्होंने कहा विश्वविद्यालयों में समय पर दीक्षांत समारोह नहीं किया जाता है. ऐसे में स्टूडेंट्स को विश्वविद्यालय उपाधि उनके घर तक भेजें.

इसे भी पढें:हाइकोर्ट ने सरकार को लगायी फटकार, कहा- मोरहाबादी से दुकानदारों को हटाना समस्या का हल नहीं

भवन निर्माण कार्यों में लायें तेजी

निर्माणाधीन भवनों के निर्माण कार्य की प्रगति की जानकारी लेते हुए भवन निर्माण सचिव को निर्देश दिया कि निर्माणाधीन भवनों के निर्माण कार्य में तेजी लायें. तैयार भवन विश्वविद्यालय को शीघ्र हस्तांतरित करें. उन्होंने विभिन्न विश्वविद्यालयों/महाविद्यालयों में चहारदीवारी कराने को कहा.

बैठक में कहा गया कि विश्वविद्यालयों में रिक्त प्रशासनिक पदों पर शीघ्र ही नियुक्ति कर ली जायेगी. साथ ही अवगत कराया कि विश्वविद्यालयों में 1000 से अधिक पद स्वीकृत किये गये हैं.

इसे भी पढें:BIG NEWS : Ukraine में घुसी’ Russian सेना,  US, पश्चिमी देशों की चेतावनी नजरअंदाज, भयंकर युद्ध की आशंका

Related Articles

Back to top button