JharkhandLead NewsRanchi

राज्यपाल रमेश बैस ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र, कहा- विवि में सीयूईटी लागू करने में हो रही है परेशानी

Ranchi : राज्यपाल रमेश बैस ने केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान को पत्र लिख कर झारखंड के विभिन्न विवि में सत्र 2022-23 में स्नातक के लिए कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट (सीयूईटी) लागू करने में हो रही कठिनाइयों से अवगत कराया है. राज्यपाल ने विद्यार्थियों की विभिन्न समस्याओं की ओर शिक्षा मंत्री, भारत सरकार का ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा है कि उनकी समस्याओं को देखते हुए वर्तमान सत्र से राज्य के विश्वविद्यालयों में यूजी कार्यक्रम के लिए सीयूईटी का पालन व लागू करना संभव प्रतीत नहीं होता है. राज्यपाल ने झारखंड के जनजातीय विद्यार्थियों की वास्तविक व व्यावहारिक समस्या को देखते हुए शैक्षणिक सत्र 2022-2023 से सीयूईटी को लागू करने के निर्णय पर पुनर्विचार करने को कहा है.

इसे भी पढ़ें: FIH Hockey Pro league: भारतीय महिला हॉकी टीम की घोषणा, झारखंड की निक्की प्रधान, सलीमा टेटे और संगीता कुमारी भी चयनित

राज्यपाल ने कहा है कि अध्यक्ष, विवि अनुदान आयोग (यूजीसी) का एक पत्र प्राप्त हुआ था जिसमें झारखंड के विभिन्न विवि में स्नातक में नामांकन के लिए शैक्षणिक सत्र 2022-23 से सीयूईटी के कार्यान्वयन के लिए कहा गया, तद्नुसार, राज्य के सभी कुलपतियों के साथ-साथ उच्च शिक्षा विभाग को यूजीसी के उक्त दिशा-निर्देशों का पालन करने का निर्देश दिया गया. राज्य के विभिन्न विवि द्वारा शैक्षणिक सत्र 2022-23 से स्नातक में विद्यार्थियों के नामांकन के लिए सीयूईटी लागू करने मं् हो रही कठिनाइयों के संदर्भ में जानकारी मिली.

ram janam hospital
Catalyst IAS

विवि द्वारा कहा गया कि झारखंड राज्य के अधिकांश विद्यार्थियों की सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि बेहतर नहीं हैं, विशेष रूप से जनजाति और पिछड़े समुदायों की छात्राएं सीयूईटी के लिए आवेदन शुल्क (लगभग 500-600 ), वहन करने की स्थिति में नहीं और इससे ड्रॉप आउट मामलों की संख्या में भी वृद्धि हो सकती है. सीयूईटी परीक्षा के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 22 मई, 2022 है, लेकिन अभी भी परीक्षा के पाठ्यक्रम और परीक्षा के स्वरूप (पैटर्न) के बारे में कोई स्पष्टता नहीं है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें:झारखंड की सड़कों पर चलने वाले कमर्शियल वाहनों से भी वसूला जायेगा यूजर FEE, मोबाइल एप से ली जाएगी मदद

Related Articles

Back to top button