न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरकार का नया शिगूफा: निजी क्षेत्र में देंगे एक लाख को रोजगार, हर जनजातीय व क्षेत्रीय भाषाओं में होगी शिक्षकों की बहाली

स्थापना दिवस में रोजगार देने का दावा हकीकत से कोसो दूर, सिर्फ 2118 को ही नियुक्ति पत्र, रांची में 637 तक अभ्यर्थियों की हो चुकी है स्क्रीनिंग

149

Ranchi: स्थापना दिवस समारोह में एकबार फिर से प्रदेश के युवाओं को नौकरी देने का दावा हकीकत से कोसों दूर रहा. दावा तो 10 हजार से अधिक लोगों को नौकरी देने का किया गया था. लेकिन समारोह में 2118 लोगों को ही नियुक्ति पत्र सौंपा गया. स्थापना दिवस समारोह में एक बार फिर मुख्यमंत्री ने दावा किया कि निजी क्षेत्र में एक लाख लोगों को नौकरी दी जायेगी. इसमें 25 हजार लोगों को नौकरी उपलब्ध करा दी गई है. सीएम ने फिर कहा कि राज्य में 32 लाख लोगों को रोजगार और स्वरोजगार से जोड़ दिया गया है. एक लाख लोगों को सरकारी नौकरी दे दी गई है, जिसमें 95 फीसदी झारखंडी हैं.

इसे भी पढ़ेंःगोलियों की गूंज और धमाकों के बीच मना राज्य का स्थापना दिवस, नौ कैबिनेट मंत्रियों ने नहीं की शिरकत

नया शिगूफा भी छेड़ा

सरकार ने एक बार फिर नया शिगूफा छेड़ा. खुले मंच से घोषणा की कि सरकार हर जनजातीय व स्थानीय भाषाओं के शिक्षकों की नियुक्ति भी करेगी. हकीकत यह है कि अब हाई स्कूल शिक्षकों के लिये कोल्हान, उत्तरी छोटानागपुर और दक्षिणी छोटानागपुर के अभ्यर्थियों की स्क्रीनिंग की जा रही है. रांची से लगभग 1000 शिक्षकों की नियुक्ति की जानी है. 637 तक की स्क्रीनिंग हो चुकी है.

10 लोगों को मिला झारखंड रत्न सम्मान

झारखंड में महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल करनेवाले 10 लोगों को सम्मानित किया. राज्यपाल और सीएम ने उन्हें एक लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि देकर सम्मानित किया. इसमें बलमदीना तिर्की (आजीविका पशु सखी), डॉ. सुरेश्वर पांडेय (चिकित्सा), डॉ. गिरिधारी राम गौंझू (जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा), केडिया बंधु(सरोद एवं सितार वादन), बिरसा मुंडा (प्रगतिशील कृषक), पैन आईआईटी एलुमनी रिच फॉर झारखण्ड (प्रेझा) फॉउंडेशन, अमिताभ मुखर्जी, (मूर्ति कला), गुमला ग्रामीण पॉल्ट्री स्वावलंबी सहकारी समिति, मधुमिता कुमारी(तीरंदाजी) और निक्की प्रधान (हॉकी) शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें: स्थापना दिवस अपडेटः पारा शिक्षकों के प्रदर्शन को रोकने के लिए मोरहाबादी में हवाई फायरिंग, पुलिस का इनकार

सांस्कृतिक क्षेत्र में प्रोत्साहन के लिए एक लाख रुपये

सांस्कृतिक क्षेत्र नाटक, नृत्य और गायन के लिए एक लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि दी गई. इसमें नाटक के लिए सैकत चट्टोपाध्याय, नृत्य में संजीव परिहस्त और गायन में शंकर नायक को एक लाख रुपये का प्रोत्साहन राशि दी गयी. वहीं विभिन्न बैंकों से 2090 करोड़ रुपये लाभुकों को ऋण के रूप में दिये गये. कौशल विकास राष्ट्रीय प्रतियोगिता के तहत कार पेटिंग और ऑटो बॉडी रिपयेरिंग के लिये प्रकाश शर्मा और सज्जाद अंसारी को 51 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि दी गयी.

इसे भी पढ़ेंःभूल गयी सरकारः न दिल्ली जैसी सुविधाएं मिलीं, न सभी गांवों में पहुंची बिजली

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: