न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरकार की घट रही है कमाई , #RBI से 45 हजार करोड़ मदद मांगने की खबर

सरकार ने एकबार फिर से रिजर्व बैंक से मदद मांगी है. यह खबर न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने दी है.

702

NewDelhi : खबर है कि सरकार को रिजर्व बैंक से 35000-45000 करोड़ रुपये मदद चाहिए. हालांकि चालू वित्त वर्ष (2019-20) के लिए RBI केंद्र को 1.76 लाख करोड़ रुपये दे चुका है.

जानकारों के अनुसार सरकार का खजाना बहुत तेजी से खाली हो रहा है और उम्मीद से कम कमाई होने के कारण जरूरी खर्च पूरा करने में परेशानी हो रही है. ऐसे में सरकार ने एकबार फिर से रिजर्व बैंक से मदद मांगी है. यह खबर न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने दी है.

Sport House

इसे भी पढ़ें :  खराब हालत में है अर्थव्यवस्था, ‘कर आतंकवाद’ पर लगाम लगाना जरूरी: स्वामी

सरकार ने रेवेन्यू का लक्ष्य 19.6 लाख करोड़ रुपये रखा है

वित्त वर्ष 2019-20 के लिए सरकार ने रेवेन्यू का लक्ष्य 19.6 लाख करोड़ रुपये रखा है, लेकिन आर्थिक सुस्ती के कारण कमाई उम्मीद के अनुसार नहीं हो रही है. कॉर्पोरेट टैक्स रेट में कटौती के कारण हर साल खजाने पर 1.5 लाख करोड़ का बोझ बढ़ा है. इसके अलावा GST से भी हर महीने उम्मीद के मुताबिक कमाई नहीं हो पा रही है.

इसे भी पढ़ें :  आज से दो दिनों के प. बंगाल दौरे पर पीएम मोदी, ममता बनर्जी के साथ मंच साझा करने की संभावना

Mayfair 2-1-2020
Related Posts

#Indian_Billionaires के पास देश के कुल बजट से भी अधिक संपत्ति : Time to care  study

एक प्रतिशत सबसे अमीर लोगों के पास देश की कम आय वाली 70 प्रतिशत आबादी यानी 95.3 करोड़ लोगों की तुलना में चार गुने से भी अधिक दौलत है.

 RBI ने चालू वित्त वर्ष के लिए केंद्र को 1.76 लाख करोड़ जारी किये थे

जान लें कि रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष (2019-20) के लिए केंद्र को 1.76 लाख करोड़ रुपये जारी किये थे. इस वित्त वर्ष में अब तक 1,23,414 करोड़ रुपये जारी किये जा चुके हैं. बताया गया है कि यह राशि अब तक एक साल में किये गये ट्रांसफर में सबसे ज्यादा है. इस क्रम में रिजर्व बैंक ने एक बार में 52,637 करोड़ रुपये अलग से ट्रांसफर किये थे जिसे लेकर काफी विवाद हुआ था.

इस साल ग्रोथ रेट गिरकर 5 फीसदी पर पहुंच चुका है

सूत्रों के हवाले से खबर है कि सरकार रिजर्व बैंक से कह सकती है कि साल 2019-20 को अपवाद के रूप में माना जाये और लाभांश का हिस्सा जारी किया जाये. सरकार 35000-45000 करोड़ रुपये रिजर्व बैंक से मदद मांग सकती है. जान लें कि इस साल ग्रोथ रेट गिरकर 5 फीसदी पर पहुंच चुका है.

हालांकि नवंबर महीने में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में तेजी आयी है. कहा जा रहा है कि आने वाले दिनों में यह 2 फीसदी की दर से विकास करेगा जो पिछले साल करीब 6 फीसदी की दर से विकास कर रही थी. ऐसे में सरकार की कमाई पर जरूर असर होगा.

इसे भी पढ़ें : देश में जारी प्रदर्शनों और विपक्षी दलों के  विरोध के बावजूद #CAA लागू, सरकार ने जारी की अधिसूचना

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like