Lead NewsNationalNEWS

सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर जल्द मुफ्त मिल सकती है रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी

सरकार का लक्ष्य 18+ के 93 करोड़ लोगों को वर्षांत तक टीका लगवाना है

New Delhi: देश में तेज गति के साथ कोरोनारोधी टीकाकरण जारी है. सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर फिलहाल कोविशील्ड और कोवाक्सिन के टीके लोगों को दिये जा रहे हैं. जल्द ही सरकारी सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी भी उपलब्ध होगी. कोविड -19 कार्य समूह के अध्यक्ष डॉ. एनके अरोड़ा ने यह जानकारी दी है. उन्होंने बताया कि फिलहाल स्पूतनिक-वी केवल निजी अस्पतालों में ही उपलब्ध है. हम इसे मुफ्त टीकाकरण कार्यक्रम के तहत उपलब्ध कराने इच्छा रखते हैं, लेकिन यह वैक्सीन की सप्लाई पर निर्भर करेगा.

इसे भी पढ़ेंः111 दिनों के बाद देश में मिले कोरोना के सबसे कम मामले, जानें-कितने संक्रमित मिलें

डॉ अरोड़ा ने आगे कहा कि स्पूतनिक-वी को -18 डिग्री सेल्सियस तापमान पर स्टोर करना होता है. कहा कि पोलियो वैक्सीन रखने में काम आने वाली कोल्ड चेन फैसिलिटीज को स्पूतनिक-वी स्टोर करने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा. इससे यह भी सुनिश्चित होगा कि वैक्सीन देश के ग्रामीण इलाकों तक पहुंच सके.

advt

इसे भी पढ़ेंःमोदी मंत्रिमंडल का कल हो सकता है विस्तार, पीएम व शाह की बैठक आज, जानें-कौन-कौन बन सकते हैं मंत्री

डॉ. अरोड़ा ने बताया है कि वैक्सीन की सप्लाई में बड़ा हिस्सा कोविशील्ड और कोवाक्सिन का ही है. इन दो वैक्सीन का प्रॉडक्शन बढ़ाने के अलावा, स्पूतनिक वी वैक्सीन का आना और मॉडर्ना व जायडस कैडिला की नई वैक्सीन का रोलआउट डेली कवरेज को 50 लाख से बढ़ाकर आने वाले हफ्तों में 80 लाख, यहां तक कि एक करोड़ भी किया जा सकता है.

adv

 

सरकार का लक्ष्य इस साल के अंत तक 18 साल से ऊपर के हर व्यक्ति (करीब 93 करोड़) का टीकाकरण करने का है. डॉ. अरोड़ा बताते हैं कि आईसीएमआर की एक ताजा रिपोर्ट अगले साल फरवरी या मार्च तक तीसरी लहर आने की भविष्यवाणी कर रही है, ऐसे में देश के बाद करीब 8 महीने का समय है. उन्होंने कहा कि तीसरी लहर की संभावना को डेल्टा प्लस वैरिएंट से जोड़कर देखना जल्दबाजी होगी. भारत में अभी इस वैरिएंट के 52 मामले सामने आए हैं.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: