न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरकार ने नकारी दो बच्चों की भूख से मौत की बात, मस्तिष्क ज्वर को बताया कारण

280

Buxar (Bihar) : बक्सर में हुई दो बच्चों की मौत को लेकर जिलाधिकारी ने बयान दिया है. दोनों बच्चों की मौत की वजह भूख बतायी जा रही थी. जिसे लेकर जिलाधिकारी राघवेंद्र सिंह ने दोनों बच्चों की मौत भूख से होने की अटकलों को खारिज किया है. और मंगलवार को उन्होंने कहा कि दोनों बच्चों की मौत मस्तिष्क ज्वर के कारण हुई है. घटना पुरनसराय पंचायत के मुसहर टोली में एक ही परिवार के दो बच्चों की मौत की है.

इसे भी पढ़ें- अडानी पावर प्लांट के लिए बेरहमी से हथिया ली गयी 10 किसानों की 16 बीघा से अधिक जमीन

मस्तिष्क ज्वर के कारण हुई मौत : जिलाधिकारी

राघवेंद्र ने बताया कि पुरनसराय पंचायत के मुसहर टोली निवासी शिव कुमार मुसहर के दो बच्चों की मौत मस्तिष्क ज्वर के कारण क्रमश: गत 26 अगस्त और एक सितंबर को हुई. वहीं दोनों बच्चों के पिता मुसहर को गत दो मई हुए प्रदर्शन के दौरान वाहन में आग लगाने के आरोप में जेल में बंद है. उन्होंने बताया कि इन दोनों बच्चों का इलाज स्थानीय अस्पताल में होने के बाद उनकी मां घाना देवी उन्हें अपने घर ले आयी थी जिसके बाद उक्त बीमारी से पीड़ित इन बच्चों की मौत हो गयी. राघवेंद्र ने कहा कि उक्त परिवार अंत्योदय योजना का लाभार्थी है और उसे इस योजना के तहत राशन मिलता रहा है.

इसे भी पढ़ें- प्रभार में चल रहा तंत्र, IAS और IFS के 103 पद खाली, 25 से ज्यादा अफसरों के पास 2-3 विभागों का प्रभार

क्या कहना है बच्चों की मां का

मामले के बारे में मृतक बच्चों की मां धन्ना देवी का कहना था कि उसके दोनों बच्चों की मौत भूख से हुई है. साथ ही उसने यह भी बताया कि दो महीने पहले उसके पति को सड़क जाम व प्रदर्शन के आरोप में जेल भेज दिया गया था. पति के जेल जाने के बाद से घर की माली हालत खराब हो गयी थी. वहीं घर में बच्चों को खिलाने के लिए घर में कुछ भी नहीं बचा था. जिसकी वजह से उसके दो साल के बेटे गोविंदा और पांच साल की बेटी ऐश्वर्या की मौत 26 अगस्त और एक सितंबर को हो गई. गौरतलब है कि इस मामले का खुलासा मौत के एक सप्ताह के बाद हुआ था.

इसे भी पढ़ें- 21 अगस्त को अपहृत प्रिया सिंह के भाई को गढ़वा पुलिस ने कहा-नौटंकी करते हो, 29 अगस्त को पलामू में मिली डेड बॉडी

इसे भी पढ़ें- खदान लीजधारकों के पास 2040 करोड़ बकाया, 62 कोल ब्लॉक में 40 को खनन का लाइसेंस ही नहीं, सालाना 1120 करोड़ का नुकसान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: