JharkhandRanchi

नवनियुक्त वनरक्षियों ने कहा- विभागीय परीक्षा का निर्णय वापस ले सरकार, वरना करेंगे सामूहिक आत्मदाह

Ranchi: वन विभाग के क्रियाकलाप के विरोध में नवनियुक्त वनरक्षियों ने राजभवन के समक्ष आमरण-अनशन शुरू किया. झारखंड राज्य अवर वन सेवा संघ ने मांग पत्र में वन विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार एवं अधिकारियों की आय से अधिक सम्पत्ति की जांच का मांग की है.

Sanjeevani

2017 में नवनियुक्त वनरक्षियों की सेवा सम्पुष्टि नहीं होने के कारण वार्षिक वेतन लाभ विभाग नही दे रहा है. आमरण-अनशन बैठे वनरक्षियों का कहना है कि विभाग के वरीय अधिकारी दबाव बना रहे हैं कि सम्पुष्टि के लिए विभागीय परीक्षा में बैठें. साथ ही विभागीय परीक्षा की घोषणा भी कर दी है.

MDLM

झारखंड राज्य अवर वन सेवा संघ की ओर से राजभवन के समक्ष पिछले नौ दिनों से चल रहे धरने के बाद दो दिनों से चार सदस्य अपनी मांगों के समर्थन में आमरण-अनशन पर बैठे है.

इसे पढ़ें : हाइकोर्ट के निर्देश पर हरकत में आयी बाघमारा पुलिस, विधायक ढुल्लू के करीबियों की हो रही है तलाश

कोई सुध लेने नहीं आया

संघ के अध्यक्ष कामेश्वर प्रसाद ने कहा कि चार सदस्य आमरण-अनशन पर हैं. दो दिनों से अन्न-जल त्याग दिया है, इसके बावजूद अब तक सरकार की ओर से कोई सुध लेने तक नहीं आया है.

वहीं, हमें डराने के लिए 24 फरवरी से विभागीय परीक्षा का नोटिस भी निकाल दिया है. अधिकारियों द्वारा लगातार वन सेवकों को डराने का प्रयास किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि हम इस परीक्षा में शामिल नहीं होंगे और इसके साथ ही अगर हमारी मांगें नहीं सुनी गयी तो अब हमलोग सामूहिक रूप से आत्मदाह कर लेंगे.

धरना प्रदर्शन में संघ के महामंत्री शिव नारायण महतो, रांची जिला अध्यक्ष बटेश्वर कुमार, प्रवीण कुमार सहित अन्य लोग शामिल थे. वहीं अमरण अनशन पर अध्यक्ष कामेश्वर प्रसाद के साथ विरेंद्र सिंह, भूपेंद्र प्रसाद और भूपेंद्र कूमार बैठे हैं.

इसे पढ़ें : संकट में पीएम का यूथ को स्किल्ड करने का सपनाः राज्य के 50 फीसदी ITI में ट्रेनर ही नहीं

क्या हैं मांगें

झारखंड राज्य अवर वन सेवा संघ विभागीय परीक्षा को लेकर विरोध दर्ज करा रहा है. वन सेवकों का कहना है कि सरकार की ओर से वेतन वृद्धि और सेवा संपुष्टि के लिए विभागीय परीक्षा ली जा रही है, जो गलत है.

उनकी मांग है कि यह परीक्षा नहीं ली जाये और सरकार अपने इस फैसले को वापस ले. साथ ही एएसआइ की तर्ज पर उन्हें भी 2800 ग्रेड पे दिया जाये.

विभाग में संविदा, अनुबंध, आउटसोर्सिग प्रथा पर रोक लगाते हुये स्थायी कर्मियों के नियोजन किया जाय. साथ ही प्रशिक्षण उपरांत परीक्षा को ही विभागीय परीक्षा माना जाये.

इसे पढ़ें : #Chatra: नक्सल प्रभावित इलाके का हाल, 5 वर्षों से अधूरा पड़ा है स्वास्थ्य केंद्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button