JharkhandRanchi

सरकार स्कूलों और शिक्षकों के प्रति संजीदगी दिखायें : सुदेश महतो

Ranchi : आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुदेश कुमार महतो ने कहा है कि झारखंड सरकार सरकारी स्कूलों के प्रति संजीदगी दिखाये. स्कूलों के शिक्षकों को शिक्षक की ही जिम्मेदारी दी जाये. सरकार इनसे वह काम लेती है, जो उनकी पढ़ाने की क्षमता और प्रतिष्ठा को प्रभावित करती है.

हाल ही में एक कार्यक्रम में सरकार के वरीय मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव के द्वारा की गयी टिप्पणी से शिक्षक समुदाय हतोत्साहित महसूस कर रहा है और इसका असर गांव-गिराव के मेहनती बच्चों के मानस पटल पर भी पड़ता है.

advt

निजी स्कूल ही शिक्षा के मानदंड हैं, यह बताने और जोर देने के बजाय झारखंड में सरकारी स्कूलों में बेहतर माहौल बनाने के लिए व्यापक रोड मैप बनाने की दरकार है.

इसे भी पढ़ें:JAC : 14 सितंबर से होगी पीटीटी और मदरसा परीक्षा, केंद्र निर्धारित

शिक्षकों की नियुक्तियां, प्रोन्नति जरूरी है और स्कूलों में आधारभूत संरचना. कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए साल भर से स्कूल बंद हैं. ऑनलाइन क्लासेज हर सरकारी स्कूलों के बच्चों की पहुंच में नहीं हैं.

उन्होंने कहा कि मंत्री रामेश्वर उरांव को यह भी नहीं भूलना चाहिए कि सरकारी शिक्षक इस कोरोना काल में पीडीएस दुकान से लेकर अस्पताल तक में तैनात थे. क्वाकरंटाइन सेंटर, रेलवे स्टेकशन, बस स्टैंड, हवाई अड्डा, दवा दुकान, चेक नाका, ऑक्सीजन सेंटर में रहने के साथ-साथ ऑनलाइन प्रशिक्षण देने का काम कर रहे थे.

शिक्षकों ने राशन कार्ड के लिए आये नये आवेदनों की भी जांच की. कोविड टेस्ट के लिए कैंप में तैनात रहे. गांव में बाहर से आनेवाले लोगों का सर्वे किया. प्रवासी मजदूरों को बसों से जिला और गांव तक पहुंचाया. मिड डे मील समेत और काम भी इनके जिम्मे हैं.

इसे भी पढ़ें:हैवियस कॉर्पस मामलाः हाइकोर्ट ने सीडब्ल्यूसी को जवाब दाखिल करने का दिया निर्देश

जबकि इसी राज्य में नवोदय विद्यालय, नेतरहाट विद्यालय, सैनिक स्कूल, इंदिरा गांधी आवासीय विद्यालय हजारीबाग, कस्तूरबा गांधी विद्यालय, सहित ग्रामीण, पठारी और दूरस्थ क्षेत्र के कई विद्यालयों का बेहतरीन पुराना रिकॉर्ड भी रहा है.

नेतरहाट, इंदिरा गांधी आवासीय बालिका स्कूल हजारीबाग की तरह हर जिले में स्कूल गढ़े जायें, इसकी जरूरत से मुंह नहीं मोड़ा जा सकता.

हाल ही में झारखंड के कई शिक्षकों को राष्ट्रपति पुरस्कार से नवाजा गया है. इसलिए निजी स्कूलों की तरह शिक्षा की गुणवत्ता बहाल करने के लिए विशेषज्ञों की रायशुमारी और कार्ययोजना तैयार कर अगर सरकार काम करे, तो मौजूदा गैप कम किया जा सकता है. लेकिन नींव ही कमजोर रखेंगे तो गुणवत्ता में फर्क जरूर दिखेगा.

इसे भी पढ़ें:RU : एलएलबी एडमिशन के लिए 15 से 30 सितंबर तक करें आवेदन

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: