न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड के सरकारी मीडिल स्कूलों में नहीं हैं प्रिंंसिपल, मात्र 7 फीसदी मीडिल स्कूलों में ही प्रिंंसिपल

3000 पद पड़े हैं खाली, छह जिले प्रिंसपल विहीन

1,751

Ranchi: झारखंड सरकार के मध्य विद्यालयों में प्रधानाध्यापकों को घोर अभाव है. इसके कारण विद्यालय का काम सुचारू रूप से नहीं चल पाता है. राज्य के कुल मीडिल स्कूलों में मात्र सात फीसदी में ही प्रिंसपल हैं. वहीं छह जिलों के स्कूलों में प्रिंसपल हैं ही नहीं. हज़ारीबाग, चतरा, सरायकेला, लोहरदग्गा, साहेबगंज और पाकुड़ ज़िलों में एक भी प्रधानाध्यापक नहीं हैं, जबकि रामगढ़,कोडरमा,पश्चिमी सिंहभूम,सिमडेगा,जामताड़ा ज़िलों में प्रधानाध्यापकों की संख्या मात्र एक है, इसके आलावे धनबाद, लातेहार, गिरिडीह, गुमला, खूंटी, देवघर ज़िलों में प्रधानाध्यापको की संख्या भी इकाई अंक में ही है.

इसे भी पढ़ें-संवैधानिक संस्थाओं पर राजनीतिकरण कर रही है भाजपा : हेमंत सोरेन

शिक्षकों की कमी दूर करे सरकार- शिक्षक संघ

अखिल झारखण्ड प्रथामिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष बिजेन्द्र चौबे, महासचिव राममूर्ती ठाकुर व प्रदेश मुख्य प्रवक्ता नसीम अहमद ने कहा कि राज्य के मध्य विद्यालयों में प्रधानाध्यापकों का टोटा पड़ा है. विभिन्न जिलों में प्रधानाध्यापकों के 3226 स्वीकृत पदों के विरुद्ध मात्र 226 प्रधानाध्यापक ही पदस्थापित हैं. इस प्रकार मात्र सात प्रतिशत विद्यालयों में ही प्रधानाध्यापक पदस्थापित हैं. लंबे समय से प्रोन्नतियों के लंबित रहने एवं प्रोन्नत्ति नियमावली की जटिलता के कारण आज 3000 पद रिक्त पड़े हुए हैं. जबकि कई अहर्ताधारी शिक्षक बिना प्रोन्नत्ति के ही सेवानिवृत होते जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें-स्थानीय विधायक पर एचईसी विस्थापितों से पैसे मांगने का आरोप

अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ ने प्रधानाध्यापकों के इन 93 प्रतिशत रिक्तियों पर तत्काल शिक्षकों को प्रोन्नत करने के लिए प्रोन्नत्ति नियमावली में संशोधन की मांग शिक्षा सचिव अमरेंद्र प्रताप सिंह से की है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: