JharkhandLead NewsRanchi

झारखंड सरकार किसानों से खरीदेगी गोबर, बढ़ेगी आमदनी, मिलेगा रोजगार

  • किसानों का पलायन रोकने व उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए तैयार होगा मेगा प्रोजेक्ट

Ranchi : झारखंड सरकार किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बड़ी तैयारी में जुट चुकी है. कृषि के क्षेत्र को विस्तार देने की दिशा में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने के लिए अब दूसरे राज्यों की योजनाओं को यहां धरातल पर उतारा जायेगा.

छत्तीसगढ़ की तरह यहां भी सरकार अब किसानों से गोबर खरीदेगी ताकि उन्हें घर बैठे ही आमदनी हो सके और उस गोबर से कई तरह की कलाकृतियां बना कर महिलाओं को रोजगार से जोड़ा जा सके. कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने छत्तीसगढ़ के दौरे में ये बातें कहीं.

उन्होंने कहा कि जल्द ही झारखंड के अधिकारी छत्तीसगढ़ का दौरा करेंगे और यहां के विकास मॉडल का अध्ययन करेंगे ताकि इस पर झारखंड में भी काम हो सके.

इसे भी पढ़ें : आखिर गरीबों ने क्यों कहा- 10 साल बाद दो फ्लैट, लेकिन परेशान मत करो

छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री ने झारखंड में इन योजनाओं को लागू करने का आग्रह किया

इससे पहले मंत्री बादल पत्रलेख ने छत्तीसगढ़ के मंत्री रविंद्र चौबे से मुलाकात की, जहां श्री चौबे ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ में क्रांतिकारी परिवर्तन आया है. इस तरह की योजनाओं को झारखंड में भी लागू करना चाहिए ताकि गरीबों व किसानों का आर्थिक विकास हो सके.

मंत्री श्री चौबे ने बताया कि यहां 90 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद का लक्ष्य रखा गया है, जिसे और बढ़ाने की तैयारी है. जबकि झारखंड में इस बार तीस लाख मीट्रिक टन ही धान खरीदी का लक्ष्य है.

इस पर मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि झारखंड में भी खरीदारी का लक्ष्य धीरे-धीरे बढ़ाया जायेगा. सबसे पहले किसानों को खेती के लिए हर स्तर से मदद की जा रही है ताकि अधिक पैदावार हो सके.

इसे भी पढ़ें : जिला पुलिस के सफल अभ्यर्थी अनिश्चितकालीन धरना पर

दो रुपये किलो गोबर खरीदती है छत्तीसगढ़ सरकार

गाय के गोबर का समुचित उपयोग हो और लोगों को अपने घर पर रोजगार मिल सके और राज्य से पलायन रुक सके इस उद्देश्य से पूरे राज्य में गौठान योजना चलायी जा रही है. यहां किसानों से दो रुपये गोबर प्रति किलो की दर से खरीदा जाता है.

यहां गोबर से दीया, गमला, गुल्लक आदि बनाये जाते हैं. जगह-जगह पर गोबर उठाव के लिए आधारभूत संरचना की व्यवस्था की गयी है, जहां लोग सरकार को गोबर देकर आसानी से पैसा कमा सकते हैं और गोबर देनेवाले को 15 दिनों के अंदर भुगतान भी कर दिया जाता है. इसे लेकर किसानों का खाता भी खोला गया है.

इसे भी पढ़ें : लापता नाबालिग लड़की को पुलिस ने ढूंढ़ निकाला, आरोपी को भेजा जेल

Related Articles

Back to top button