JharkhandLead NewsRanchi

सदन में सरकारः 407 स्कूलों को स्थानीय लोगों ने घोषित किया उर्दू स्कूल, 509 स्कूलों में रविवार की बजाय शुक्रवार को अवकाश

Ranchi: राज्य में सरकारी स्कूलों को उर्दू स्कूल घोषित किये जाने का मसला विधानसभा में भी छाया रहा. विधायक अनंत कुमार ओझा ने स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग से इस संबंध में जानकारी मांगी थी. साथ ही रविवार की बजाय शुक्रवार को छुट्टी दिये जाने पर भी सवाल पूछा था. इस पर विभाग ने बताया है कि इस संबंध में विभिन्न जिलों से प्रतिवेदन प्राप्त हुआ है. वस्तुस्थिति यह है कि राज्य के 407 स्कूलों में स्थानीय स्तर पर उसे उर्दू स्कूल घोषित किया गया था. इनमें से 350 स्कूलों में उर्दू शब्द हटाकर सुधार दिया गया है.

इसी तरह से राज्य भर के 509 ऐसे स्कूलों का पता लगा जिसमें रविवार को निर्धारित सरकारी अवकाश की बजाये शुक्रवार को साप्ताहिक अवकाश दिया जा रहा था. इसमें से 459 स्कूलों ने पुरानी व्यवस्था को बहाल कर दिया है.

इसे भी पढ़ें:  Bhushan Raina Passed Away: टिनप्लेट हॉस्पिटल में सुबह 8 बजे हुआ भूषण रैना का निधन, पार्वती घाट पर होगा अंतिम संस्कार

Sanjeevani

दो जिलों में ही हाथ बांध कर प्रार्थना का मामला

कई जगहों पर स्कूलों में एक विशेष समुदाय द्वारा हाथ जोड़कर प्रार्थना करने से मना किये जाने के सवाल पर भी स्कूली शिक्षा विभाग ने जानकारी दी. बताया कि राज्य के गैर अधिसूचित उर्दू स्कूलों में से रामगढ़ एवं गढ़वा जिला के एक-एक स्कूल में हाथ बांध कर प्रार्थना की जाती थी. अब उक्त दोनों स्कूलों में हाथ जोड़ कर प्रार्थना करना लागू करा दिया गया है. सम्प्रति राज्य के सभी गैर उर्दू स्कूलों में हाथ जोड़ कर ही प्रार्थना की जा रही है.

दोषी पदाधिकारियों पर एक्शन

स्कूली शिक्षा विभाग ने यह भी बताया है कि सामान्य स्कूलों से उर्दू विद्यालय का नाम हटाने का निदेश दिया गया है. साथ ही जिन जिलों से शिकायत आयी थी, वहां दोषी पदाधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई का निदेश (पत्रांक 1718, 11.07.2022 एवं 19.07.22) दिया जा चुका है. विभागीय समीक्षात्मक बैठक (पत्राकं 1759, 29.07.22 एवं 01.08.22) के बाद भी इस संबंध में कहा गया है.

इसे भी पढ़ें:  झारखंड विस सत्र का तीसरा दिन: भाजपा ने विधानसभा मुख्य द्वार पर किया प्रदर्शन, सीएम हेमंत के इस्तीफे की मांग

Related Articles

Back to top button