न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बच्चों के हक का निवाला छीनने पर उतारू है भाजपा-आजसू सरकार :  हेमंत सोरेन

पहले सप्ताह में तीन दिन मिलता था अंडा, अब मिलेगा केवल दो दिन 

2,031
  • एक अंडे के लिए स्कूलों को मिलेंगे 4 की जगह 6 रुपये

Ranchi: सरकारी स्कूलों में अंडे की राशि बढ़ोतरी के कैबिनेट फैसले के बाद जेएमएम ने भाजपा-आजसू सरकार पर बच्चों के हक़ का निवाला छीनने का आरोप लगाया है. पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर कहा है कि अपनी इस लूट के साथ सरकार ने न केवल बच्चों का हक छीना है, बल्कि अब सरकार बच्चों के स्वास्थ्य की भी अनदेखी करने लगी है. एक तरफ रघुवर सरकार लगातार स्कूलों को बंद करने पर उतारू है. वहीं ऐसा निर्णय कर सरकार ने बता दिया है कि पैसों की कमी से वह स्कूल बंदी के बाद अंडों की कटौती जैसे घिनौने कार्य को अंजाम दे रही है. मालूम हो कि कैबिनेट ने रविवार को स्कूली बच्चों को लेकर एक बड़ा निर्णय लिया है. सरकार ने सरकारी स्कूलों में एक अंडा के लिए दी जा रही राशि में दो रुपये की बढ़ोतरी कर दी है.  सरकार के इस फैसले के बाद एक अंडा के लिए स्कूलों को चार की जगह छह रुपये दिये जायेंगे. वहीं, स्कूलों में सप्ताह में तीन दिन मिलने वाले अंडा में एक दिन की कटौती कर दी गयी है. इससे अब दो दिन ही अंडा मिल सकेगा.

पोस्टरबाज सरकार के पास है शायद पैसे की कमी 

हेमंत सोरेन ने कहा है कि राज्य की वर्तमान रघुवर सरकार पोस्टरबाज सरकार से ज्यादा और कुछ नहीं है. हाल के दिनों में लोकसभा और विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. शायद इन चुनावों में इस पोस्टरबाज़ सरकार के पास पैसों की कमी है. यही कारण है कि आज बाजार में खुले तौर पर जो अंडा 4 रूपये में मिलता है, वही  अंडा आज सरकार द्वारा 6 रूपये में खरीदा जा रहा है.

 

स्कूल बंदी के बाद अब अंडों की कटौती

कैबिनेट द्वारा सप्ताह में केवल दो दिन अंडे दिये जाने के निर्णय पर हेमंत सोरेन ने ट्वीट किया कि ऐसा कर सरकार अब झारखंडी बच्चों के हक का निवाला छीनने पर उतारू हो गयी है. एक तरफ तो सरकार सभी सरकारी स्कूलों को बंद कर रही है. वहीं अब इन स्कूलों में दिये जा रहे अंडों में भी कटौती की गयी. उन्होंने कहा कि दरअसल राज्य की भाजपा-आजसू सरकार यह नहीं चाहती है कि यहां के बच्चों के स्वास्थ्य और शिक्षा ठीक रहे.

इसे भी पढ़ेंः और आखिरकार इजरायल नहीं ही जा सके कृषि मंत्री रणधीर सिंह…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: