न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरेंडर करनेवाले नक्सलियों का तो सरकार बांहें फैलाकर स्वागत करती है, लेकिन जेपीएससी अभ्यर्थियों की सुध तक नहीं ले रही : सुखदेव भगत

70
  • आंदोलनरत अभ्यर्थियों को मिला कांग्रेस का समर्थन
  • विधायक सुखदेव भगत और प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय ने अभ्यर्थियों से की मुलाकात
  • डॉ अजय ने कहा- व्यापम घोटाले जैसी स्थिति बनेगी जेपीएससी मुख्य परीक्षा की
  • छात्रों से वार्ता कर परीक्षा स्थगित करने की प्रदेश अध्यक्ष ने की मांग
  • सोशल मीडिया में छात्रों के एक गुट ने किया मुख्य परीक्षा का बहिष्कार

Ranchi : छठी जेपीएससी मुख्य परीक्षा स्थगित करने की मांग को लेकर आंदोलनरत अभ्यर्थियों को अब कांग्रेस का भी समर्थन मिल गया है. रविवार की सुबह से आंदोलनरत अभ्यर्थियों से मिलने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ अजय कुमार शाम को आयोग के मुख्य गेट पहुंचे. कांग्रेस विधायक सुखदेव भगत भी शाम को अभ्यर्थियों से मिलने पहुंचे. कांग्रेस विधायक सुखदेव भगत ने कहा कि सरेंडर करनेवाले नक्सलियों का सरकार दोनों हाथ उठाकर स्वागत करती है, लेकिन शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन कर रहे अभ्यर्थियों की सत्ता पक्ष के नेता या विधायक ने सुध तक नहीं ली है. क्या यही सरकार की संवेदनशीलता है? सरकार को चेतावनी देते हुए भगत ने कहा कि विपक्ष सरकार को किसी भी हाल में बच्चों के भविष्य से खेलने नहीं देगा. सरकार अमर बाउरी कमिटी की रिपोर्ट को लागू करे. जब तक परीक्षा नियमावली में हुई त्रुटियों को दूर नहीं किया जाता है, तब तक सरकार परीक्षा को स्थगित करे. सुखदेव भगत ने कहा कि सोमवार को चलनेवाले विधानसभा सत्र के दौरान विपक्ष सरकार को इस मुद्दे पर पूरी तरह घेरेगा. वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ अजय कुमार ने अभ्यर्थियों से बात कर पूरी जानकारी ली. बातचीत के बाद मीडिया को बयान देते हुए डॉ अजय ने रघुवर सरकार को निशाने में लिया. कहा कि इस सरकार में भ्रष्टचार की बू चारों तरफ फैली हुई है. रघुवर सरकार के कार्यकाल में अराजकता का सबूत है कि अभी तक आयोग की एक भी परीक्षा आयोजित नहीं की जा सकी है. इसी तरह जो कर्मचारी फॉर्म की स्क्रूटिनी भी करते हैं, वही लोग परीक्षा भी देने जा रहे हैं. मुख्यमंत्री रघुवर दास से मांग करते हुए उन्होंने कहा कि बरती जा रही अनियमितता को देखते हुए वह तत्काल ही परीक्षा को स्थगित करें.

hosp3

व्यापम घोटाले से जेपीएससी परीक्षा की तुलना की

डॉ अजय कुमार ने कहा कि दुनिया के किसी भ्रष्ट देश में भी इस तरह की परीक्षा आयोजित नहीं की जाती है, जैसा कि झारखंड में हो रही है. भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में एक बहुत बड़ी उम्मीद बची थी कि संवैधानिक संस्था आयोग (यूपीएससी, जेपीएससी) में परीक्षा नियमपूर्वक होगी, लेकिन भाजपा सरकार में अब ऐसा कुछ नहीं बचा है. दरअसल, जेपीएससी परीक्षा की स्थिति अब व्यापम घोटाले जैसी होनेवाली है. कोर्ट में मामला अभी भी लंबित है, फिर भी सरकार परीक्षा लेने पर अड़ी है.

सरेंडर करनेवाले नक्सलियों का तो सरकार बांहें फैलाकर स्वागत करती है, लेकिन जेपीएससी अभ्यर्थियों की सुध तक नहीं ले रही : सुखदेव भगत

मुख्यमंत्री दें समय, करेंगे वार्ता

अभ्यर्थियों के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करते हुए डॉ अजय कुमार ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री इनकी मांगों को सुनने के लिए थोड़ा भी समय देते हैं, तो वह उनसे मिलना चाहेंगे. सरकार जिस तरह से अपने निर्णय पर अड़ी है, वह किसी भी तरीके से अच्छा नहीं है. सरकार को चाहिए कि उनकी मांगों पर विचार करते हुए सरकार उनसे वार्ता करे.

सोशल मीडिया में अभ्यर्थियों ने किया परीक्षा का बहिष्कार

मालूम हो कि मुख्य परीक्षा में बरती जा रही अनियमिता को लेकर रविवार सुबह से हजारों की संख्या में अभ्यर्थी आयोग कार्यालय के समक्ष आंदोलनरत हैं. इन छात्रों ने सोशल मीडिया में इस परीक्षा का बहिष्कार तक करने की घोषणा कर दी है. बहिष्कार करनेवाले इन अभ्यर्थियों ने आयोग की कार्यशैली पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जब तक आयोग अपनी छवि सुधारते हुए इस मुख्य परीक्षा पर अभ्यर्थियों के हितों में कोई निर्णय नहीं लेती है, तब तक वे परीक्षा का बहिष्कार करेंगे.

सरेंडर करनेवाले नक्सलियों का तो सरकार बांहें फैलाकर स्वागत करती है, लेकिन जेपीएससी अभ्यर्थियों की सुध तक नहीं ले रही : सुखदेव भगत

सरेंडर करनेवाले नक्सलियों का तो सरकार बांहें फैलाकर स्वागत करती है, लेकिन जेपीएससी अभ्यर्थियों की सुध तक नहीं ले रही : सुखदेव भगत

इसे भी पढ़ें- जेपीएससी मुख्य परीक्षा के दौरान हंगामा और उपद्रव करनेवालों को बख्शा नहीं जायेगा : एसएसपी

इसे भी पढ़ें- निराले अंदाज में JPSC का विरोध, गाया राष्ट्रगान, लगाये भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे, देखें…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: