न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

घोषणा कर भूल गयी सरकारः 13 जुलाई – सर, यह अंब्रेला स्कीम क्या होती है, जो अब तक लागू ही नहीं हुई

सरकार के मुखिया को बहुमत की सरकार का गुमान है

890

Shweta Kumari

झारखंड में बहुमत की सरकार है. सरकार के मुखिया को इसका गुमान भी है. अक्सर कहते हैं कि हमने हर क्षेत्र में बहुत काम किया. झारखंड में सबका साथ और सबका विकास हो रहा है. इसे परखने के लिए न्यूज विंग ने “घोषणा करके भूल गयी सरकार” नाम से एक सीरीज शुरु की है. आज हम सरकार के तीन सालों के कार्यकाल के बाद 13 जुलाई 2017 को की गयी घोषणाओं और लिये गये फैसलों की बात करेंगे.

इसे भी पढ़ें – जयंत सिन्‍हा के खेद में मॉब लिंचिंग की निंदा नहीं है

वर्ष 2017 का जुलाई महीना, सरकार के लिए महत्वपूर्ण महीना था. बहुमत और जीरो टॉलरेंस वाली सरकार के 1000 दिन पूरे होने वाले थे. लिहाजा सरकार 1000 दिन की उपलब्धि को जनता के बीच ले जाने और नई-नई घोषणाएं करने में व्यस्त थी. 13 जुलाई को मुख्यमंत्री ने उच्चाधिकारियों के साथ बैठक की. बैठक के बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास के हवाले से जो खबर मीडिया में छपी, वह थी, गरीबों की खुशहाली के लिए बनायी गयी अंब्रेला स्कीम. इस स्कीम के बारे में न तो उस वक्त अफसरों को ज्यादा जानकारी थी और ना ही आज है. तब मीडिया को सिर्फ यह बताया गया था कि मुख्यमंत्री ने गरीबों की खुशहाली के लिए अंब्रेला स्कीम बनाने का निर्देश दिया है. इसमें किसी एक कार्य की बजाय समग्र रुप से उन सभी कार्यों को एक छतरी के नीचे लाया जायेगा. जो गरीबों के कल्याण से संबंधित है.

इसे भी पढ़ें – घोषणा कर भूल गयी सरकारः 12 जुलाई 2016 : वादा किया था हाई स्कूल में 18584 और कस्तूरबा स्कूल के 2233…

मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया था कि 15 दिनों के भीतर वैसे नियमों को समाप्त कर दिया जायेगा, जो आज के समय में अप्रसांगिक हो गये हैं. यह काम साल भर बीतने के बाद भी नहीं हुआ है.

मुख्यमंत्री ने सभी विभागों के सचिव को निर्देश दिया था कि सप्ताह में एक दिन दूसरे जिले के दौरे पर जायें. सचिवों की रिपोर्ट मंगाकर देख लीजिये. कोई भी सचिव दूसरे जिलों में नहीं जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – कोयला घोटाला मामला : मुश्किलों में नवीन जिंदल, कोर्ट ने दिया अतिरिक्त आरोप तय करने का आदेश

वर्ष 2015 में 13 जुलाई को ही मुख्यमंत्री ने रामगढ़ के पतरातू में बर्नपुर सीमेंट प्लांट का उद्घाटन किया था. कहा था कि पहले फेज के काम का शुभारंभ हो गया है. रोजाना 800 टन सीमेंट का उत्पादन होगा. अक्टूबर में दूसरे फेज का उद्घाटन होगा. मुख्यमंत्री ने कहा था, पहली बार राज्य में औद्योगिक यूनिट का उद्घाटन कर रहा हूं. झारखंड के लिए आज का दिन ऐतिहासिक दिन है. पतरातू के लोग भी इस प्लांट से बहुत ज्यादा आशान्वित थे. लेकिन लोगों की उम्मीदें पूरी नहीं हुई.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: