न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रोजगार मेले में शामिल युवाओं के लिए सरकार बनायेगी माइग्रेशन सेंटर

1,369

 Ranchi: सरकार कौशल विकास विभाग, झारखंड सरकार रोजगार मेले के माध्यम से चयनित युवाओं के लिए दिल्ली समेत देश के अन्य राज्यों में माइग्रेशन सेंटर बनाने जा रही है. इसके माध्मय से रोजगार मेले में पंजीकृत युवाओं की गतिविधियों पर नजर रखेगी. सरकार दिल्ली में पहला माइग्रेशन सेंटर खोलेगी ताकि दिल्ली के आसपास राज्यों में काम कर रहे युवाओं को सरकार सहायता प्रदान कर सके. इस केंद्र पर युवाओं के लिए ड्राइविंग लाइसेंस, जाति-प्रमाण पत्र, आय प्रमाण-पत्र समेत अन्य प्रमाण-पत्र बनाये जा सकेंगे.

रोजगार के दौरान हो रही परेशानी पर नजर रखेगी सरकार

रोजगार मेले में विभिन्न कंपनियों में चयनित युवाओं पर माइग्रेशन सेंटर नजर रखेगा. जिससे यह सुनिश्चित होगा कि युवाओं को वेतन या अन्य सुविधाएं मिल रही हैं या नहीं. सेंटर इस बात पर नजर रखेगा कि कंपनी ने जॉब फेयर के दौरान जो वादा किया था, वो पूरा हो रहा है या नहीं. झारखंड के युवाओं को निजी कंपनी में काम करने के दौरान तीन महीने तक उनके वेतन एवं भत्ते की निगरानी माइग्रेशन सेंटर के माध्यम से की जायेगी.

नौकरी छूटने पर तीन महीने तक माइग्रेशन सेंटर में रह सकेंगे युवा

निजी कंपनी में कार्य कर रहे झारखंड के युवा अगर कंपनी से निकाले जाते हैं या कंपनी छोड़ते हैं, तो इस हालत में माइग्रेशन सेंटर में युवाओं के रहने एवं खाने का उचित प्रबंध होगा. साथ ही अन्य प्रदेशों में कार्य कर रहे युवाओं को खाने की समस्या का निदान सेंटर के माध्यम से किया किया जायेगा. ज्ञात हो कि पिछले रोजगार मेले में शामिल बड़ी संख्या में युवाओं ने वेतन में कमी एवं अन्य राज्यों में बेहतर खाना नहीं मिलने के कारण निजी कंपनियों की नौकरी छोड़ दी थी.

सरकार का मकसद युवाओं की मदद :  निदेशक

कौशल विकास विभाग के मिशन निदेशक रवि कुमार ने कहा निजी कंपनी में राज्य के एक लाख युवाओं को नौकरी देने के साथ सरकार उनकी नौकरी एवं वेतन पर भी नजर ऱखेगी. इसी सोच के साथ माइग्रेशन सेंटर बनाये जा रहे हैं. किसी युवा की नौकरी जाने पर उसे तीन महीने तक सेंटर में रखकर बेहतर कंपनी में भेजने का कार्य किया किया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः कैमरा युक्त नयी ट्रैफिक सिग्नल व्यवस्था बनी जी का जंजाल, लगने लगे जाम

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: