न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#DoubleEngine की सरकार में बेबस छात्र-2 : 3 साल में पॉलिटेक्निक कॉलेजों में लेक्चरर और HOD नियुक्त नहीं करा सकी सरकार

736

Kumar Gaurav 

Ranchi : राज्य सरकार डबल इंजन की सरकार होने का दावा करती है. हर क्षेत्र में विकास का दावा करती है. सरकार यह भी दावा करती है कि राज्य सरकार ने लाख से अधिक सरकारी नौकरियां बांटी हैं. योग्य छात्रों को नौकरी देने में लगातार प्रयत्नशील है.

Sport House

पर हकीकत यह है कि तीन साल से अधिक समय निकल गये, योग्य अभ्यर्थी इंतजार में ही हैं वे लेक्चरर बनेंगे. परीक्षा लेने वाली संस्था जेपीएससी और डबल इंजन वाली सरकार नौकरी देने में असफल रही.

इसे भी पढ़ें : क्या सरकार लिखेगी – कि सासंदों के मुफ्त खाने की राशि का वहन जनता करती है  

2016 में निकला था विज्ञापन

इसी डबल इंजन की सरकार में साल 2016 में जेपीएससी द्वारा पॉलिटेक्निक कॉलेजों में लेक्चरर की नियुक्ति के लिए विज्ञापन निकाला गया था. विज्ञापन कुल 80 पदों के लिए था.

Vision House 17/01/2020

इसके अलावा उसी साल सरकार ने पॉलिटेक्निक कॉलेजों में 12 एचओडी के पदों के लिए भी नियुक्ति विज्ञापन निकाला था पर सबकुछ विज्ञापन में ही रह गया.

सरकार तीन साल होने के बाद भी ना तो डिप्लोमा के छात्रों के लिए लेक्चरर नियुक्त कर सकी ना ही एचओडी.

SP Deoghar

साथ ही वैसे अभ्यर्थियों को भी इंतजार में ही छोड़ रखा है जो लेक्चरर बनने के आस में तीन साल से इंतजार कर रहे हैं.

Related Posts

#Inspire_Award के लिए राज्य स्तर पर 10 मॉडल्स का चयन, अब देश स्तर की तैयारी

जिला स्कूल में आयोजित इस प्रतियोगिता में झारखंड के 24 जिला स्तर पर चयनित विद्यार्थियों के मॉडल को प्रदर्शित किया गया था.

इसे भी पढ़ें : NewsWing Impact: #JPSC ने पहले रद्द किया असिस्टेंट इंजीनियर का विज्ञापन, फिर 637 पदों के साथ निकाली नियुक्ति

इन पदों के लिए भी दो बार निकाला गया है विज्ञापन

जेपीएससी ने 13 दिसंबर 2016 को सबसे पहले पॉलिटेक्निक कॉलेजों के लेक्चररों के लिए विज्ञापन निकाला था, जिसके बाद फिर से विज्ञापन में पदों की संख्या में इजाफा करते हुए 19 जनवरी 2017 को विज्ञापन जारी किया.

फॉर्म भरे गये. परीक्षा हुई नहीं. डिप्लोमा के छात्र लेक्चरर और एचओडी के इंतजार में रह गये और लेक्चचर बनने की आस में अभ्यर्थी.

पॉलिटेक्निक कॉलेजों के 12 एचओडी पदों के लिए भी निकला था विज्ञापन

पॉलिटेक्निक कॉलेजों में एचओडी नियुक्ति के लिए 22 दिसंबर 2016 में ही विज्ञापन निकाला था. आवेदन 25 जनवरी 2017 तक लिए गये. 12 पदों पर होने वाली यह बहाली अब तक प्रक्रियाधीन है.

अभी तक फॉर्म भराने के अलावा सरकार अन्य कोई पहल नहीं कर पायी है. मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को ही तारामंडल के उद्घाटन के दौरान कहा कि अब छात्रों को टेक्निकल डिग्रियां लेने बाहर नहीं जाना होगा. अपने राज्य में ही मिलेंगी.

पर सवाल ये है कि डिग्रियां अगर मिलेंगी तो कैसे, क्या बिना लेक्चरर और एचओडी के?

इसे भी पढ़ें : #ODF झारखंड का सच : कागजों पर #Toilet निर्माण दिखा राशि भी कर दी खर्च, जमीन पर सिर्फ गड्ढे और अधूरी दीवारें

Mayfair 2-1-2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like